जोनल आई जी ने सेंट्रल जेल व कैंप जेल की सुरक्षा व्यवस्था का किया निरीक्षण

जोनल आई जी ने सेंट्रल जेल व कैंप जेल की सुरक्षा व्यवस्था का किया निरीक्षण

भागलपुर : खुफिया विभाग की रिपोर्ट के बाद #भागलपुर_सेंट्रल_जेल और कैंप जेल की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है दोनों जिलों की सुरक्षा को लेकर सोमवार को जोन के आईजी सुशील मानसिंह खोपड़े ने एसएसपी #मनोज_कुमार सिटी डीएसपी #शहरयार_अख्तर के साथ-साथ भारी संख्या में पुलिस बल के साथ सेंट्रल जेल और कैंप जेल की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया ।

दोनों जिलों की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के बाद जोन के आईजी सुशील मानसिंह जायजा लिया । दोनों जिलों की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के बाद जोन के आईजी सुशील मानसिंह खोपड़े ने जेल प्रशासन सहित पुलिस प्रशासन को कई आवश्यक दिशा निर्देश दिए और आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ बाहरी गति को तेज करने का निर्देश दिया ।

डीजीपी पुलिस मुख्यालय से मिले निर्देश के बाद आईजी सुशील मानसिंह खोपड़े ने आज पहले सेंट्रल जेल पहुंचे और करीब डेढ़ घंटे तक निरीक्षण करने के बाद कैंप जेल पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया । जायजा लेने के बाद आईजी  ने बताया कि मुख्यालय पुलिस के द्वारा जेल की सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस जवानों की तैनाती की जाएगी जब तक मुख्यालय से जवान नहीं मिल जाते हैं जिला पुलिस के जवान की प्रतिनियुक्ति दोनों जिलों में की जाएगी ।

आईजी ने बताया कि सेंट्रल जेल में बिहार के कई कुख्यात और नक्सली बंद है और खुफिया विभाग ने नक्सलियों द्वारा जेल ब्रेक कांड किए जाने की साजिश रची जाने का रिपोर्ट किया है । जिसके आलोक में मुख्यालय के निर्देशानुसार दोनों जिलों की सुरक्षा का रिव्यू किया गया । आपको बता दें कि 10 अप्रैल 2014 को जमुई में मतदान के दिन जब सीआरपीएफ के जवान अपने कैंप से निकलकर ड्यूटी पर जा रहे थे कि उस दौरान भारी संख्या में नक्सलियों ने सवा लाख बाबा स्थान के पास जवानों पर हमला कर दिया था जिसमें सीआरपीएफ हवलदार सोमी गौरव और रविंद्र राय शहीद हो गए थे । वही 10 जवान हमले में घायल हुए थे ।

इस मामले में मुंगेर कोर्ट ने नक्सली मन्नू कोड़ा बालों कोडाा रतु कोडा अधिक लाल पंडित और विपिन मंडल को फांसी की सजा सुनाई जिसके बाद सजा सुनाए जाने के आरोप में नक्सलियों ने जन अदालत लगाकर सजा सुनाने वाले जज की भी हत्या का एलान कर दिया था । मामले को लेकर नक्सलियों ने एक दिन बंद भी किया था ।

नक्सलियों के इस ऐलान के बाद पांचों सजायाफ्ता नक्सलियों को न कोर्ट ने नक्सली मन्नू कोड़ा बानो कोणार्क  कोड़ा अधिक लाल पंडित और विपिन मंड नक्सलियों को मुंगेर से भागलपुर सेंट्रल जेल भेज दिया । जो यहां बंद है खुफिया विभाग द्वारा पुलिस वाले को भेजे गए रिपोर्ट में नक्सलियों की ओर से साथी को छुड़ाने के लिए जेल ब्रेक की साजिश रची जाने का जिक्र किया गया है और नक्सलियों के सेंट्रल कमेटी ने डॉ दस्तक को इसकी जिम्मेवारी होती है पुलिस वाले के इस रिपोर्ट के अनुसार भागलपुर और नवगछिया एसपी को अलर्ट किया गया और इसी अलर्ट के आलोक में आईजी ने दोनों जेल का सुरक्षा का जायजा लिया सुरक्षा बढ़ाई जाने के साथ-साथ आईजी ने सेंट्रल जेल में बंद कई कुुुख्यात नक्सलियों को सेंट्रल जेल से कैंप जेल में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया है ।

अन्य खबरों के लिए पढ़ेंNational | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login