कौशल विकास मंत्रालय ने अरबनक्लैप से की साझेदारी

कौशल विकास मंत्रालय ने अरबनक्लैप से की साझेदारी

आपके रोजमर्रा के घरेलू कामों के लिए सही व्यापारियों की खोज से जुड़ी चुनौतियों से निपटने और कर्मचारियों की कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री #राजीव_प्रताप_रूडी ने स्थानीय सेवाओं के लिए अग्रणी मोबाइल मार्केटप्लेस अरबनक्लैप टेक्नोलॉजी प्रा.लि. के साथ साझेदारी की है।

अरबनक्लैप के सह-संस्थापक अभिराज भाल और वरुण खेतान ने शनिवार को मंत्री से मुलाकात की और 10 चुने गए कारोबारों में कुशल मैनपावर को प्रत्यक्ष रूप से शामिल करने के लिए कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई) के साथ काम करने की प्रस्तावना दी।

अरबनक्लैप ने 8 सेक्टर स्किल परिषदों के साथ प्रत्यक्ष रूप से काम करने की प्रस्तावना दी है। इनमें शामिल हैं -ऑटोमोटिव, ब्यूटी एंड वेलनेस, निर्माण कार्य, घरेलू काम, इलेक्ट्रोनिक्स एवं हार्डवेयर, फर्नीचर और फिटिंग, पेंट और कोटिंग तथा प्लम्बिंग।”

बैठक के दौरान अरबनक्लैप ने कौशल भारत मिशन के तहत कुशल कर्मचारी उपलब्ध कराकर उद्यमशीलता को बढ़ावा देने की भी प्रस्तावना दी है। अनुमान है कि अगले वर्ष के अंत तक प्रत्याशित कार्यबल की आवश्यकता चार गुना बढ़ जाएगी। यानी ब्यूटी, स्पा, प्लम्बिंग, इलेक्ट्रिशियन, कारपेंटर, एसी टेकनीशियन, रेफ्रीजरेटर टेक्नीशियन, पेंटर, मजदूर, योगा एवं फिटनैस इंस्ट्रक्टर एवं घरेलू कार्यों जैसे जॉब रोल्स में काम करने वालों की आवश्यकता है।

एमएसडीई ने इस साझेदारी के मद्देनजर एक संयुक्त कार्य समूह का गठन किया है, ताकि कुशल कार्यबल इससे जल्द से जल्द लाभान्वित हो सके।

साझेदारी पर बात करते हुए रूडी ने कहा, “बाजार में मांग बहुत अधिक है और हमारे पास प्रशिक्षित एवं कुशल कार्यबल है, जिसे कौशल भारत (स्किल इंडिया) के तहत, प्रशिक्षित, मूल्यांकित एवं प्रमाणित किया गया है। इस तरह की साझेदारियां प्रशिक्षित युवाओं को सही नौकरियां पाने और बेहतर आजीविका कमाने में मदद करेंगी।”

उन्होंने कहा, “एसएससी और आईटीआई संस्थान निजी क्षेत्र के खिलाड़ियों जैसे अरबनक्लैप के साथ काम करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि हम यथासंभव मांग और आपूर्ति के बीच के अंतराल को दूर कर सकें।”

मंत्री ने कहा कि कौशल भारत आने वाले समय में भारत में कुशल एवं प्रमाणित कार्यबल के विकास के लिए इस तरह के कई पोर्टलों के साथ साझेदारियां करेगा। इस तरह के प्रत्यक्ष अवसर और संपर्क सुनिश्चित करेंगे कि कुशल कार्यबल के मुनाफे का कोई हिस्सा बिचैलियों के हाथ न आए। व्यक्ति को अपने कौशल का पूरा फायदा मिले।

अरबनक्लैप ने कई अन्य शहरों में विस्तार की योजना बनाई है। अनुमान है कि अरबनक्लैप के लिए प्रत्याशित कार्यबल की आवश्यकता अगले वर्ष के अंत (दिसंबर, 2018) तक चार गुना हो जाएगी।

अन्य खबरों के लिए पढ़ेंNational | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

 

You must be logged in to post a comment Login