सेंसेक्स की सबसे बड़ी गिरावट

सेंसेक्स की सबसे बड़ी गिरावट

sensex

कमजोर आर्थिक आंकड़ों व वैश्विक बाजारों में तेज गिरावट के बीच विदेशी निवेशकों की बिकवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स आज 538.12 अंक टूट गया। यह इस साल सेंसेक्स की सबसे बड़ी गिरावट है। डॉलर के मुकाबले रूपया कमजोर होकर 13 माह के निचले स्तर पर आने और कच्चे तेल की कीमतें कई साल के निचले स्तर पर आने से भी बाजार की धारणा सुस्त हुई। आज रुपया 64 पैसे टूटकर 63.58 के स्तर पर आ गया। वैश्विक स्तर पर ब्रेंट क्रूड का दाम 2009 के बाद पहली बार करीब 59 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर आ गया। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 538.12 अंक के नुकसान के साथ 26,781.44 अंक पर आ गया। इससे पहले, सेंसेक्स में 3 सितंबर, 2013 को सबसे बड़ी गिरावट आई थी जब यह 651 अंक का गोता खाकर बंद हुआ था। इसी तरह, नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 8,100 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे आकर दिन के निचले स्तर 8,052.60 अंक पर आ गया। हालांकि, यह 152 अंक नीचे 8,067.60 अंक पर बंद हुआ। सोने का आयात छह गुना बढऩे की वजह से नवंबर में भारत का व्यापार घाटा डेढ़ साल के उच्च स्तर 16.86 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

You must be logged in to post a comment Login