रामपाल की गिरफ्तारी पर 27 करोड़ रुपये खर्च

रामपाल की गिरफ्तारी पर 27 करोड़ रुपये खर्च

download (1)

हरियाणा के हिसार स्थित सतलोक आश्रम से रामपाल को गिरफ्तार करने में सरकार ने 26 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किए हैं। यह जानकारी खुद सरकार ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट को दी है। इस बीच, शुक्रवार के रामपाल को न्यायमूर्ति एम जेयापॉल और न्यायमूर्ति दर्शन सिंह की खंडपीठ के समक्ष पेश किया गया, जिसके बाद अदालत ने मामले को 23 दिसंबर तक के लिए टाल दिया। अगली सुनवाई में उसे सह आरोपी रामपाल ढाका और ओपी हुड्डा के साथ पेश किया जाएगा।
हरियाणा के पुलिस महानिदेशक एसएन वशिष्ठ ने बड़े पैमाने पर हुई हिंसा के बाद रामपाल की गिरफ्तारी के लिए चले अभियान की विस्तृत रिपोर्ट अदालत को सौंपी। हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़ प्रशासन और केंद्र सरकार ने भी अदालत की अवमानना मामले में रामपाल को गिरफ्तार कर हाईकोर्ट में पेश करने के लिए चलाए गए अभियान की विस्तृत जानकारी अदालत को दी।
मामले की सुनवाई करते हुए पीठ ने वशिष्ठ को अभियान में घायलों की मेडिकल रिपोर्ट भी अदालत में जमा कराने को कहा। साथ ही आश्रम में हुई हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार 909 लोगों की पृष्ठभूमि का सत्यापन कराने का भी निर्देश दिया। अदालत ने हरियाणा पुलिस को हलफनामे के जरिए सतलोक आश्रम में मिले हथियार, अभियान में वहां पहुंचे नुकसान और घायलों की जानकारी मांगी है।
गौरतलब है कि 2006 में एक हत्या के मामले में पेश नहीं होने पर अदालत ने 5 नवंबर को रामपाल की जमानत खारिज कर दी थी और उसे पेश होने का निर्देश दिया था। लेकिन कई नोटिस और गैरजमानती वारंट के बावजूद रामपाल पेश नहीं हुआ। अदालत के सख्त तेवर के बाद पुलिस ने गत 19 नवंबर को उसकी गिरफ्तारी की।
रामपाल की संपत्ति का ब्योरा भी मांगा : पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने रामपाल, उसके ट्रस्ट और अनुयायियों के नाम पर सारी संपत्ति की जानकारी मांगी है। इसी के साथ हाईकोर्ट ने एमिकस क्यूरी (अदालत के सहयोगी) वरिष्ठ वकील अनुपम गुप्ता से पूछा है कि मामले की सुनवाई कहां हो इस पर वे अपना सुझाव दें।
रामपाल की सफाई : रामपाल की तरफ से वरिष्ठ वकील एसके गर्ग ने कोर्ट में कहा कि उनके मुवक्किल आश्रम में बंधक थे। ऐसे में उनके अनुयायी ही उन्हें बाहर नहीं आने दे रहे थे। इन परिस्थितियों में उन पर जानबूझकर कोर्ट में पेश न होने का आरोप लगाना गलत है।
बैतूल आश्रम की जांच के लिए पुलिस टीम पहुंची
मध्यप्रदेश के बैतूल स्थित रामपाल के आश्रम की भी जांच हरियाणा पुलिस कर रही है। बैतूल के पुलिस अधीक्षक सुधीर लाड ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि हरियाणा पुलिस का एक उप निरीक्षक, प्रधान आरक्षक और आरक्षक गुरुवार शाम बैतूल पहुंचे। उनके मुताबिक यह दल आश्रम की जमीन के दस्तावेजों की जांच कर रहा है। वे आश्रम जाकर छानबीन करेंगे और लोगों के बयान लेंगे।
यहां भी करोड़ों का साम्राज्य
10 किलोमीटर जिला मुख्यालय से दूर उडम्दन गांव में स्थित है आश्रम
70 एकडम् में फैला है आश्रम, पिछले तीन-चार साल में यहां हुए हैं कई निर्माण
50 हजार लोगों के बैठने के लिए विशाल शेड का निर्माण पूरा हो चुका है
02 तलाब और एक फिल्टर प्लांट भी आश्रम परिसर के भीतर मौजूद है
गिरफ्तारी के बाद छाया सन्नाटा
रामपालकी गिरफ्तारी से पहले आश्रम में उसके समर्थक रहते थे, जो रोजाना सत्संग और उसके प्रवचन की रिकॉर्डिग बजाते थे। लेकिन रामपाल की गिरफ्तारी के बाद ये समर्थक भी भूमिगत हो गए हैं। आश्रम में सन्नाटा पसरा हुआ है।

You must be logged in to post a comment Login