‘मेन ओनली’ जापानी द्वीप विश्व विरासत स्थल में शामिल

‘मेन ओनली’ जापानी द्वीप विश्व विरासत स्थल में शामिल

दक्षिण-पश्चिम जापान का एक अनोखा द्वीप जहां महिलाओं को जाने की मनाही है और पुरुषों को तट पर जाने से पहले निर्वस्त्र होना पड़ता है, उसे यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों में शामिल किया गया है।

गार्जियन की सोमवार की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिमी मुख्य द्वीप क्युशु तथा कोरियाई प्रायद्वीप के बीच में मौजूद ओकिनोशिमा (मेन ओनली) एक वक्त में समुद्री सुरक्षा के लिए प्रार्थना स्थल था और चीन तथा कोरिया के बीच सबंधों का केंद्र बिंदू था, जो चौथी सदी से ही चला आ रहा था।

पोलैंड के क्राकोव में रविवार को संयुक्त राष्ट्र के सालाना शिखर सम्मेलन के दौरान कुल 700 वर्ग किलोमीटर में फैले इस द्वीप को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया, जिसके साथ ही अब जापान के 21 स्थल विश्व विरासत स्थल की सूची में शामिल हो चुके हैं।

मुनाकाता ताइशा के पुजारियों को द्वीप पर मौजूद 17वीं सदी में निर्मित मंदिर ओकित्सु में पूजा करने की अनुमति मिली हुई है।

इसके अलावा, सन् 1904-05 के दौरान रूस-जापान की बीच युद्ध के दौरान शहीद हुए नौसैनिकों के सम्मान में हर साल 27 मई को 200 लोगों को द्वीप पर जाने की अनुमति दी जाती है।

तट पर जाने से पहले उन्हें निर्वस्त्र होना तथा पापों से खुद को मुक्त करने के लिए समुद्र में निर्वस्त्र स्नान करने सहित सदियों पुरानी तमाम परंपराओं का पालन करना पड़ता है।

अन्य खबरों के लिए पढ़ेंNational | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login