लालू-नीतीश के इशारे पर छुपाये गये ललन के मिलने से सुरक्षाकर्मियों पर गिरी गाज : सुशील मोदी

लालू-नीतीश के इशारे पर छुपाये गये ललन के मिलने से सुरक्षाकर्मियों पर गिरी गाज : सुशील मोदी

बिहार भारतीय जनता पार्टी(भाजपा)विधानमंडल दल के नेता एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राष्ट्रीय जनता दल(राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर आरोप लगाया कि उनके इशारे पर ही पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को करोड़ों की जमीन दान देने वाले ललन चौधरी को छुपाकर रखा गया था और जब मीडिया ने उसे ढूंढ कर निकाला तो विधानपरिषद सुरक्षाकर्मियों पर गाज गिर गई।

मोदी ने यहां कहा कि यादव की पत्नी राबड़ी देवी और उनकी पुत्री हेमा यादव को करोड़ों रुपये की जमीन दान देने वाले विधान परिषद कर्मी ललन चौधरी को राजद अध्यक्ष और मुख्यमंत्री  कुमार के इशारे पर छुपा कर रखा गया था। उसे जब मीडिया ने ढूंढ निकाला तो सरकार ने खीझ में विधान परिषद के सुरक्षाकर्मियों पर गाज गिरा दी। उन्होंने कहा कि ललन चौधरी को मीडिया के सामने लाने के बाद मीडियाकर्मियों के विधान परिषद में प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी, जिसे भाजपा के तीखे विरोध के बाद हटा लिया गया।

भाजपा नेता ने कहा कि 14 जून को विधान परिषद की लेखा शाखा -2 में कार्यरत ललन चौधरी से मीडियाकर्मियों ने पूछताछ की और उसे लोगों के सामने लाया। मीडिया की इस कार्रवाई से नाराज नीतीश सरकार के इशारे पर परिषद प्रशासन ने मार्शल त्रिभुवन सिंह, उप मार्शल सीताराम राय, माइकल पॉल दास और राजेश्वर राम के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया। उन्होंने कहा कि इन सुरक्षाकर्मियों से पूछा गया है कि वे स्थिति स्पष्ट करें कि किस परिस्थिति में और कैसे मीडियाकर्मियों ने परिषद सचिवालय की लेखा शाखा -2 में प्रवेश कर पूछताछ की।

पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन (बीपीएल) करने वाले और खाली समय में राजद अध्यक्ष की खटाल में काम करने वाले ललन चौधरी की नियुक्ति जब राबड़ी देवी मुख्यमंत्री थी तब विधान परिषद के तत्कालीन सभापति जाबिर हुसैन द्वारा चतुर्थवर्गीय कर्मी के पद पर की गई थी। उन्होंने कहा कि चौधरी ने वर्ष 2014 में पूर्व मुख्यमंत्री और उनकी बेटी हेमा यादव को पटना की अपनी एक करोड़ की सम्पति दान कर दी थी।

 मोदी ने कहा कि यादव जब दानवीर ललन चौधरी को लोगों के सामने नहीं लाए तो मीडिया ने उसे ढूंढ निकाला। उन्होंने कहा कि ललन चौधरी की असलियत उजागर होने से घबराई सरकार मीडियाकर्मियों को धन्यवाद देने की बजाय विधान परिषद में उनके प्रवेश पर रोक लगा दी और सुरक्षाकर्मियों पर कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की इस कार्रवाई का पुरजोर विरोध करती है।

अन्य खबरों के लिए पढ़ेंNational | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login