शिक्षकों को अपनी सोच बदलने की नसीहत दी

शिक्षकों को अपनी सोच बदलने की नसीहत दी

शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने स्कूलों की बेहतरी व बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए शिक्षकों को अपनी सोच बदलने की नसीहत दी है। मंगलवार को एक निजी होटल में झारखंड राइट टू एजुकेशन फोरम व झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से ‘स्कूल डवलपमेंट प्लान’ पर आयोजित कांफ्रेंस में कहा कि कुछ स्कूलों में शिक्षकों के प्रयास से ही बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिल रही है, लेकिन कुछ स्कूलों में शिक्षक अपने क‌र्त्तव्य का निर्वहन बिल्कुल नहीं करते। उनके द्वारा स्कूलों में किए गए निरीक्षण में ऐसा ही देखने को मिल रहा है।

मंत्री ने सरकारी स्कूलों की कमियां गिनाने के साथ-साथ उपलब्धियां व अच्छाइयां भी लोगों को बताने पर जोर दिया ताकि सरकारी स्कूलों के प्रति लोगों की धारणा बदले। कहा, सरकारी स्कूलों को भी प्राइवेट की तरह बनाने को लेकर सरकार काम कर रही है। उन्होंने इस वर्ष उत्कृष्ट कार्य करने वाले विद्यालय प्रबंध समिति व बाल संसद को सम्मानित करने की बात कही। इससे पहले, राज्य परियोजना निदेशक मुकेश कुमार ने कहा कि इस वर्ष से स्कूलों को मिलनेवाली राशि डीएसई के माध्यम से नहीं बल्कि विद्यालय प्रबंधन समिति के खाते में सीधे जाएगी।

डैश बोर्ड के माध्यम से इसकी राज्य स्तर से निगरानी होगी। जीरो पंचायत की चर्चा करते हुए कहा कि चाईबासा के उपायुक्त ने पूरे झींकपानी प्रखंड को ही जीरो ड्राप आउट घोषित कर दिया है। उन्होंने सभी शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति रद करने के मुख्य सचिव के आदेश की भी जानकारी दी। इस अवसर पर बेहतर काम करनेवाली विद्यालय प्रबंधन समितियों व बाल संसद के सदस्यों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम को राज्य बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने भी संबोधित किया। संचालन फोरम के कन्वीनर एके सिंह ने किया।

अन्य खबरों के लिए पढ़ें :

National | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login