रमजान की रात की खरीदारी से गुलजार रहता है हैदराबाद

रमजान की रात की खरीदारी से गुलजार रहता है हैदराबाद

हैदराबाद में खास तौर से पुराने शहर में यातायात जाम की समस्या आम बात है। लेकिन पवित्र महीने #रमजान के दौरान शहर में पूरी रात जाम लगा रहता है। मध्य रात्रि के साथ ऐतिहासिक चारमीनार और दूसरे वाणिज्यिक केंद्र जैसे मेलापल्ली, मेहदीपट्टनम और टोली चौकी जैसे इलाके पूरी तरह जाम में घिरे रहते हैं। उपवास […]

मिथिला में 700 साल पुरानी जोड़ी मिलान प्रथा कायम

मिथिला में 700 साल पुरानी जोड़ी मिलान प्रथा कायम

कहते हैं जोड़ी स्वर्ग से बनकर आती है, लेकिन उत्तर बिहार यानी #मिथिला क्षेत्र के #मधुबनी जिले के #सौराठ गांव में बड़ी संख्या में विवाह योग्य युवक-युवतियों की जोड़ी मिलान कर शादी कराई जाती है। सौराठ में हिंदू पंचांग के मुताबिक, ज्येष्ठ-आषाढ़ महीने के बीच (जून के अंत) में हर साल जोड़ी मिलान महोत्सव (सभा) […]

स्नान यात्रा शुरू, हजारों श्रद्धालु पुरी पहुंचे

स्नान यात्रा शुरू, हजारों श्रद्धालु पुरी पहुंचे

भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र तथा बहन सुभद्रा की एक झलक पाने के लिए हजारों की तादाद में लोग ओडिशा के पुरी पहुंच चुके हैं। भजन व घंटों की आवाजों के बीच देवता स्नान बेदी पहुंच चुके हैं। देवताओं का स्नान समारोह स्नान पूर्णिमा (जेठ महीने की पूर्णिमा) को मनाया जाएगा। धार्मिक रीति-रिवाज के दौरान […]

हिंदू-मुस्लिम भाईचारे के साथ मनाया जा रहा खीर भवानी उत्सव

हिंदू-मुस्लिम भाईचारे के साथ मनाया जा रहा खीर भवानी उत्सव

जम्मू एवं कश्मीर में प्रसिद्ध #खीर_भवानी_उत्सव में हमेशा की तरह इस बार भी सांप्रदायिक सौहार्द्र देखने को मिला है। कश्मीरी पंडित श्रद्धालु जब #तुलामुला_मंदिर पहुंचे, तो वहां स्थानीय मुस्लिमों ने उनका दूध के साथ स्वागत किया। हालांकि इस साल पर्व में हिस्सा लेने बेहद कम श्रद्धालु पहुंचे हैं। कश्मीरी पंडितों के लिए पवित्र धार्मिक उत्सव […]

सौराठ सभा : जहां लगती है दूल्हों की हाट

सौराठ सभा : जहां लगती है दूल्हों की हाट

बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र में ‘सौराठ सभा’ यानी दूल्हों का मेला, प्राचीन काल से लगता आया है। यह परंपरा आज भी कायम है। आधुनिक युग में इसकी महत्ता को लेकर बहस जरूर तेज हो गई है। सौराठ सभा मधुबनी जिले के सौराठ नामक स्थान पर 22 बीघा जमीन पर लगती है। इसे ‘सभागाछी’ के रूप […]

इस पेड़ के बिना अधूरी है विवाह की रस्में

इस पेड़ के बिना अधूरी है विवाह की रस्में

छत्तीसगढ़ में आदिकाल से ही वृक्षों की पूजा होती रही है। पीपल, बरगद के वृक्षों को तो सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। वहीं #विवाह की रस्मों का भी एक विशेष वृक्ष #गूलर गवाह बनता है। गूलर के पेड़ की लकड़ी और पत्तियों से विवाह का मंडप बनता है। इसकी लकड़ी से बने पाटे […]

‘बरगद’ के चित्रों में झलका प्राकृतिक सौंदर्य

‘बरगद’ के चित्रों में झलका प्राकृतिक सौंदर्य

पर्यावरण संक्षरण के लिए दुनियाभर में शनिवार को #पृथ्वी_दिवस मनाया जाएगा। ऐसे में एक #चित्रकार ने अपनी कला के केंद्र में #बरगद_वृक्ष को रखकर सूर्योदय और सूर्यास्त के दौरान इसके सौंदर्य को उकेरा है। नई दिल्ली में शुरू हुई कला प्रदर्शनी में संरक्षण, कलातीत एवं सभ्यागत पुरातनता का प्रतीक माने जाने वाले बरगद के वृक्ष […]

हाजीपुर का ‘नवग्रह कुआं’ बना आस्था का केंद्र

हाजीपुर का ‘नवग्रह कुआं’ बना आस्था का केंद्र

आपने वैसे तो कई कुओं की पूजा होती देखी होगी, लेकिन बिहार के वैशाली जिला मुख्यालय #हाजीपुर में एक ऐसा कुआं भी है, जहां लोग #नौ_ग्रहों के प्रभाव से शांति के लिए पूजा करने आते हैं। मान्यता है कि इस कुआं में मात्र स्नान करने और इसका जलग्रहण करने से ही सभी ग्रहों के दोष […]

नव-संवत्सर : ऋतुओं के लेखा-जोखा की असाधारण पद्धति

नव-संवत्सर : ऋतुओं के लेखा-जोखा की असाधारण पद्धति

संवत्सर एक तरह से समय को कालखंड में विभाजित करने की पद्धति है, यानी बारह महीने का एक पूरा काल-चक्र। यह पद्धति सबसे पहले भारत में ही प्रारंभ की गई। वास्तव में यह विभिन्न ऋतुओं का वो हिसाब-किताब है जो सूर्य और पृथ्वी के अंर्तसंबंधों के कारण घटित होता है। संवत्सर असाधारण है। माना जाता […]

इन सभी नवरात्रों में चैत्र नवरात्र का है बहुत महत्व

इन सभी नवरात्रों में चैत्र नवरात्र का है बहुत महत्व

देवी भागवत पुराण के अनुसार पूरे वर्ष में चार #नवरात्र होते हैं। दो गुप्त, तीसरे शारदीय और चौथे #चैत्र_नवरात्र। अमूमन लोग #गुप्त_नवरात्र के बारे में कम ही जानते हैं। साल में दो बार होने वाले शारदीय और चैत्र नवरात्र के बारे में ज्यादातर लोगों की जानकारी होती है। चारों नवरात्र का मकसद और मान्यताएं अलग-अलग […]

1 2 3 13