भागलपुर : एसएसपी मनोज कुमार ने 16 पुलिसकर्मी को किया निलंबित

भागलपुर : एसएसपी मनोज कुमार ने 16 पुलिसकर्मी को किया निलंबित

भागलपुर : जिला पुलिस प्रसाशन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कर्तव्यहीनता के आरोप में 16 पुलिसकर्मियों को निलम्बित किया है जबकि तीन पुलिसकर्मियों को जिला बदर किया गया है।

यह जानकारी शुक्रवार को अपने कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान एसएसपी मनोज कुमार ने दी। उन्होंने बताया की ट्रको से अवैध वसूली के आरोप में 8 पुलिस कर्मियो को तो मद्य निषेध में सिथिलता बरतने के आरोप में 8 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।जबकि मद्य निषेध के दौरान कर्तव्यहीनता के आरोप में तिन पुलिसकर्मियों को जिला बदर कर दिया गया है।

ट्रको व वाहनों से अवैध वसूली में शामिल आठ पुलिसकर्मियों को एसएसपी ने सस्पेंड कर दिया है. पीरपैंती और विक्रमशिला टीओपी पर वाहनों से अवैध वसूली की शिकायत रेंज डीआइजी से की गयी थी जिसपर उन्होंने कहलगांव डीएसपी से जांच करने को कहा और एसएसपी से भी इसपर नजर रखने को कहा था. जांच करा कार्रवाई का निर्देश दिया था.

पीरपैंती मामले की जांच कहलगांव डीएसपी से और टीओपी पर वसूली मामले की जांच सिटी डीएसपी से करायी गयी जिसमें एसआइ से सिपाही तक को वसूली में संलिप्त पाया गया. उसके बाद कार्रवाई की गयी. एसएसपी ने पीरपैंती थाना में पदस्थापित एसआइ गजेंद्र सिंह, मिर्जाचौकी बैरियर पर तैनात एएसआइ सुरेश प्रसाद रजक और सिपाही 278 पवन कुमार के साथ विक्रमशिला पुल टीओपी के एएसआइ राजाराम, पीटीसी 119 कुंदन कुमार, पीटीसी 733 रंजीत कुमार, पीटीसी 775 ओम प्रकाश साह और सिपाही 1194 मो रज्जाक को एक साथ सस्पेंड कर दिया.

उक्त जानकारी शुक्रवार को एसएसपी मनोज कुमार ने अपने कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान दी।इसके अलावे उन्होंने बताया की मद्य निषेद के दौरान सिथिलता बरतने के आरोप में उनके द्वारा 8 पुलिस कर्मियो को निलम्बित किया गया है जिसमें तीन पुलिस निरीक्षक , तीन पुलिस अवर निरीक्षक ,दो सहायक अवर निरीक्षक और एक चौकीदार शामिल है ,इसमें एक पुलिस निरीक्षक और एक अवर निरीक्षक को 10 वर्ष तक थानाध्यक्ष नहीं बनने की सजा दी गयी है।जबकि तीन पुलिस कर्मियों को जिला बदर किया गया है।

जिसमें दो अवर निरीक्षक और एक सहायक अवर निरीक्षण शामिल हैं।उन्होंने बताया की नई उत्पाद निति का उल्लंघन करने वाले पुलिस पदाधिकारियों में पुलिस निरीक्षक कृपाशंकर आजाद ,सहायक अवर निरीक्षक जवाहर कुमार सिंह पर विभागीय करवाई करते हुए निलम्बित किया गया।वहीं पुलिस निरीक्षक विनय कुमार पर विभागीय कार्रवाई करते हुए निलंबित किया गया।

इनपर 2 निन्दन की सजा और 10 वर्षों तक थानाध्यक्ष नही बनने की सजा दी गयी।वहीं पुलिस अवर निरीक्षक दुर्गेश कुमार भी 10 वर्ष तक थानाध्यक्ष नहीं रहेंगे।इनपर मद्य निषेध से संबंधित विभागीय कार्यवाही पर समय मन्तव्य नहीं देने का आरोप है।पुलिस अवर निरीक्षक हारुण मुस्ताक पर शराबबंदी में सिथिलता बरतने का आरोप है।

सहायक अवर निरीक्षक शशि भूषण पासवान पर कांड में लापरवाही बरतने का आरोप है।पुलिस अवर निरीक्षक अजय शर्मा को कांड में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित किया गया।चौकीदार सुबूकलाल पासवान को शराबबंदी में सिथिलता बरतने तथा आसूचना संकुलन नहीं करने के आरोप में निलंबित किया गया।

वहीं पुलिस अवर निरीक्षक हेमन्त कुमार, पुलिस अवर निरीक्षक भोगेन्द्र झा , सहायक अवर निरीक्षक अकिल बैठा को जिला बदर किया गया है।
एसएसपी ने बताया की राज्य में पूर्ण शराबबंदी के बाद अप्रैल माह 2016 से 31 मई 2017 तक कुल 451 मामले आये,जिसमें 329 का निष्पादन किया गया और 122 मामले लम्बित हैं।इस मामले में 621 अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गयी।तथा 2232 .695 लीटर अवैध देशी व 2344.44 लीटर अवैध विदेशी शराब व 72.5 लीटर अवैध वियर बरामद किये गए और 197.82 लीटर अवैध मसालेदार देशी शराब व 958 किलोग्राम अवैध जावा महुआ की बरामदगी हुई है।

उन्होंने बताया की शराबबंदी के दौरान पुलिस द्वारा 5275 जगहों पर कुल छापेमारी की गयी।जिसमें राज्यसात के अंतर्गत कांडों में कार्रवाई करते हुए 53 वाहनों को जब्त किया गया जिसमें 7 चार चक्का,7 तीन चक्का ,28 दो चक्का ,व 14 घर शामिल हैं।उन्होंने बताया की इस दौरान 5 घरों को सील किया गया तथा 42 स्पीडी ट्रायल के अंतर्गत है।

अन्य खबरों के लिए पढ़ेंNational | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login