व्यावसायिक हित रखने वालों की सूची सौपे बीसीसीआई : सुप्रीम कोर्ट

व्यावसायिक हित रखने वालों की सूची सौपे बीसीसीआई : सुप्रीम कोर्ट

bcci vs supreme court

नयी दिल्ली ! उच्चतम न्यायालय ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल. 6) में स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी मामले में मुद्गल समिति की रिपोर्ट पर सुनवाई करते हुए मंगलवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से आईपीएल और चैंपियंस लीग में व्यावसायिक हित रखने वाले प्रशासकों और खिलाडि़यों की सूची मांगी। न्यायमूर्ति टी एस ठाकुर और न्यायमूर्ति एफएमआई कलीफुल्ला की खंडपीठ ने यह जानकारी उस समय मांगी जब बोर्ड ने बीसीसीआई के नियम में विवादास्पद संशोधन का बचाव शुरू किया। इस नियम के माध्यम से ही ख्ोल प्रशासकों के हितों के टकराव के प्रावधान से छूट देने के साथ ही आईपीएल और चैंपियंस लीग में टीम खरीदने की अनुमति प्रदान की गई थी। खंडपीठ ने इस सूची का अवलोकन करने का निश्चय करने से पहले कुछ तल्ख टिप्पणियां कीं और कहा कि आसमान नहीं गिर पड़ेगा यदि बीसीसीआई के अधिकारी टीम के मालिक नहीं होंगे। न्यायालय ने कहा कि यदि बीसीसीआई के अध्यक्ष टीम के मालिक नहीं होंगे तो इससे समूची आईपीएल परियोजना ध्वस्त नहीं हो जाएगी और क्या व्यावसायिक हितों के बगैर आईपीएल का आयोजन संभव नहीं है।

You must be logged in to post a comment Login