अट्टहास शक्तिपीठ – यहाँ गिरा था माँ सती अध्रोष्ठ

अट्टहास शक्तिपीठ – यहाँ गिरा था माँ सती अध्रोष्ठ

1अट्टहास शक्तिपीठ पश्चिम बंगाल के लाबपुर में स्थित हैं । जहां माता का अध्रोष्ठ यानी नीचे का होंठ गिरा था । यहां की शक्ति पफुल्लरा तथा भैरव विश्वेश हैं । संस्कृत  शब्द अट्टा और हासा (हंसी) चरम जोर से हँसी अर्थ से आता है । अटटहास का मंदिर एक शक्तिपीठ के रूप में माना जाता है । यहां पर सती देवी के होठों का गिरना माना गया है ।

 अटटहास मंदिर की शक्ति फलौरा और विषवेश रूप कालाभैरव के रूप से संबोधित किए गए हैं । यह लाभपुर पश्चिम बंगाल में स्थित है । देवी और शिव मंदिर की छवि देवी मंदिर के बगल में है । यह एक प्रमुख तीर्थ और पर्यटन आकर्षण है । मंदिर के बगल में एक बड़ा तालाब है । श्री रामचंद्र देवी दुर्गा की पूजा के लिए हनुमान तालाब से 108 नीले कमल एकत्र करके चढ़ाते थे ।

 फुलारा का अर्थ मिटटी में सब कुछ के समुचित विकास का मतलब है और लोग नमाज के दौरान देवताओं के आइटम की पेशकश यही कारण है कि मिटटी में बढ़ता है जो कारण है खिल जाता है । भंेट के अभ्यास ‘‘ अन्ना भोग ’’ के रूप में कहा जाता है । यह मंदिर बहुत पुराने समय में निर्माण किया गया था । दीवारों और स्तंभों मंदिर में , विभिन्न मंत्र और देवताओं का चित्रण चित्र पत्थर पर बाहर कुरेदे गये हैं ।

त्यौहार दुर्गा पूजा सितम्बर या अक्टूबर में उत्सव के दौरान गीतों और बहुत अधिक श्लोक मंत्र देवी दुर्गा को समर्तित किये जाते हैं । नवरात्रि में भक्त नौ दिनों तक मिटटी से प्राप्त भोजन नहीं खाते हैं अटटहास मंदिर, कटवा, वर्धमान जिले पश्चिम बंगाल का एक महत्वपूर्ण शक्तिपीठ है । अटटहास एक है संस्कृत जोर से हँसी का तात्पर्य जो शब्द अटटा और हासा या हँसीं से प्राप्त होता है ।

अन्य खबरों के लिए पढ़ें : National | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets |

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

You must be logged in to post a comment Login