सूरत में 26 एचआईवी पॉजिटिव बच्चों के चलते सरकारी स्कूल हुआ खाली

सूरत में 26 एचआईवी पॉजिटिव बच्चों के चलते सरकारी स्कूल हुआ खाली
एक तरफ जहां एचआईवी पॉजिटिव बच्चों को शिक्षा देने के लिए नई गाइडलाइन जारी की जा रही हैं, अभियान चलाए जा रहे हैं, वहीं गुजरात के एक सरकारी स्कूल से चौंकाने वाली खबर आई है। यहां के एक स्कूल में 26 एचआईवी पीड़ित बच्चों की पहचान हुई है, जिसके चलते बाकी बच्चों ने स्कूल छोड़ दिया है। इन बच्चों की संख्या तकरीबन 225 बताई जा रही है।
सूरत जिले के आंबोली गांव में स्थित सरकारी स्कूल में 26 एचआईवी पॉजिटिव छात्र-छात्राएं भी शिक्षा ले रहे हैं। इसके चलते पिछले एक साल में बाकी सारे बच्चे स्कूल छोड़ चुके हैं। एक साल पहले एचआईवी पॉजिटिव बच्चों द्वारा एडमिशन लेने के बाद यह स्कूल मीडिया की सुर्खियों में रहा था। इसे एक अच्छी पहल करार दिया गया था, लेकिन इसकी सच्चाई धीरे-धीरे सामने आने लगी और आज यह स्कूल लगभग खाली हो चुका है।
कक्षा एक से सातवीं तक के इस शासकीय स्कूल में जहां एक साल पहले 236 बच्चे पढ़ते थे, वहीं अब यह संख्या घटकर मात्र 28 ही रह गई है। इसमें भी एचआईवी पॉजिटिव बच्चे ही हैं।
एडमिशन के समय भी हुआ था विवाद:
जून-2013 में इन एचआईवी पॉजिटिव बच्चों का एडमिशन सूरत की एक सामाजिक संस्था ने करवाया था। उस दौरान भी ग्रामीणों ने इसका विरोध किया था। ग्रामीणों ने मांग भी की थी कि स्कूल में इन बच्चों को एडमिशन न दिया जाए, लेकिन उनकी एक न चली। इसके चलते ग्रामीणों ने ही धीरे-धीरे अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद करवा दिया। यह सिलसिला लगातार जारी रहा और आज पूरा स्कूल खाली हो चुका है।

You must be logged in to post a comment Login