लंदन में दिखी बिहार में निवेश की ललक – मांझी

लंदन में दिखी बिहार में निवेश की ललक – मांझी
manjhi
मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पांच दिवसीय लंदन यात्रा के पहले दिन निवेशकों ने स्वास्थ्य और शिक्षा में निवेश की दिलचस्पी दिखाई। सबसे पहले एटॉन बिजनेस स्कूल के प्रसन्नजीत कुमार ने मुख्यमंत्री से बातचीत की। उन्होंने कहा कि वे बिहार में उच्च शिक्षा और अत्याधुनिक चिकित्सा संस्थान खोलना चाहते हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री  लंदन के प्रसिद्ध चटनी रेस्टोरेंट में भारतीय मूल के डॉक्टरों के एक प्रतिनिधिमंडल से मिले। इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व डॉ. डी नागर कर रहे थे।
मांझी ने उनसे कहा कि बिहार का माहौल निवेशकों के लिए काफी अच्छा है। स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में निवेश करने वालों को औद्योगिक प्रोत्साहन नीति-2011 के तहत सभी सुविधाएं दी जाएंगी। सीएम ने उन्हें बताया कि फूड प्रोसेसिंग सेक्टर की तरह स्वास्थ्य और पर्यटन के लिए भी प्रोत्साहन नीति बनाई जा रही है। जल्द ही इसे लागू किया जाएगा। इस दौरान मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, प्रधान सचिव दीपक कुमार, ब्रजेश मेहरोत्रा, रामेश्वर सिंह, सचिव संजय कुमार सिंह और भारतीय मूल के डॉ. डी. नागर, डॉ. सरफराज, डॉ. शहाबुद्दीन, डॉ. एम. अशरफ, डॉ. रचना रंजन आदि मौजूद थी।
सिंगल विंडो सिस्टम पर भी चर्चा
इससे पहले मुख्यमंत्री का हीथ्रो एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत हुआ। सीएम अलग-अलग निवेशकों के समूह से मिले। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को उद्योग प्रोत्साहन नीति-2011 के तहत बिहार इंडस्ट्रियल इंटेंसिव पॉलिसी और सिंगल विंडो क्लियरेंस एक्ट-2006 की जानकारी दी।
बिहार में मिलती हैं ये सुविधाएं
अफसरों ने निवेशकों को बताया कि बिहार में भूमि पंजीयन शुल्क में 100% छूट है। भूमि खरीद पर 25% इंसेटिव व कैपिटल इन्वेस्टमेंट पर 50% अनुदान मिलता है। 10 साल तक चुकाए गए वैट की 80%राशि हम वापस करते हैं। तकनीकी सहायता के लिए 30% अनुदान देते हैं।

You must be logged in to post a comment Login