रोहित शर्मा ने तोड़ डाले कई रिकॉर्ड्स श्रीलंका के खिलाफ

रोहित शर्मा ने तोड़ डाले कई रिकॉर्ड्स श्रीलंका के खिलाफ

rohit

कोलकाता का ईडन गार्डन्स ग्राउंड, टीम इंडिया का टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करना और फिर 59 रनों तक दो विकेट गंवा देना. इतना ही नहीं यह स्कोर 59 पर तीन विकेट भी हो सकता था अगर पारी के पांचवें ओवर में शमींदा इरांगा की गेंद पर तिसारा परेरा ने रोहित शर्मा का आसान कैच लपक लिया होता. लेकिन दिन तो रोहित शर्मा का था. चोट के बाद वापसी कर रहे रोहित शर्मा ने वनडे क्रिकेट में एक दिन में ही ऐसे रिकॉर्ड्स बना डाले, जो तोड़ना किसी भी बल्लेबाज के लिए फिलहाल नामुमकिन सा नजर रहा है.

मैच एक… और रोहित ने तोड़ डाले इतने सारे रिकॉर्ड्स 
वनडे क्रिकेट में किसी भी बल्लेबाज के लिए डबल सेंचुरी जड़ना सपने जैसा होता है, और रोहित दुनिया के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज बन गए हैं जिन्होंने वनडे इंटरनेशनल में दो दोहरे शतक जड़ डाले हैं. इसके अलावा व्यक्तिगत स्कोर के मामले में रोहित ने वीरेंद्र सहवाग के 219 रन के वर्ल्ड रिकॉर्ड को भी काफी पीछे छोड़ दिया है. रोहित ने श्रीलंकाई गेंदबाजों की बेरहमी से पिटाई करते हुए 225 मिनट की मैराथन पारी के दौरान 173 गेंद पर 33 चौके और 9 छक्कों की मदद से 264 रनों की जादुई पारी खेली. रोहित का स्कोर इतना था कि पूरी श्रीलंकाई टीम मिलकर भी इतने रन नहीं बना सकी.

रोहित ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है. बाउंड्रीज से रन बनाने के मामले में रोहित ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज शेन वाटसन को पीछे छोड़ डाला है. रोहित ने 264 में से 186 रन (33 चौके, 9 छक्के) तो बाउंड्रीज से बटोरे. इससे पहले वाटसन ने बांग्लादेश के खिलाफ 185 रनों की पारी में 150 रन (15 चौके, 15 छक्के) बाउंड्रीज से बटोरे थे.

उंगली में फ्रैक्चर के चलते रोहित को इंग्लैंड दौरे को बीच में छोड़कर आना पड़ा. इसके बाद उन्होंने चोट से उबरकर श्रीलंका के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में सेंचुरी जड़कर अपने फॉर्म में वापसी के संकेत दे दिया था. रोहित जब बल्लेबाजी करने आए थे तो शुरुआत काफी धीमी रही थी. रोहित शर्मा ने कैसे समय के साथ अपनी पारी को एक्सिलरेट किया उसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं, कि उन्होंने 72 गेंद पर अपनी हाफसेंचुरी पूरी कि जबकि सेंचुरी तक पहुंचने में उन्हें कुल 100 गेंद लगीं. 125 गेंद पर उन्होंने 150 रन पूरे किए तो 151 गेंद पर डबल सेंचुरी ठोक डाली. 250 रन तक पहुंचने के लिए उन्होंने 166 गेंदों का सामना किया.

वनडे की चार ‘चमत्कारी’ डबल सेंचुरी हमारी ही झोली में
एक और मजेदार बात ये है कि वनडे इंटरनेशनल में अभीतक महज चार बार कोई बल्लेबाज दोहरा शतक लगा पाया है. और चारों बार यह कारनामा टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने ही किया है. सचिन तेंदुलकर वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ने वाले पहले बल्लेबाज बने, तो उनके शागिर्द कहे जाने वाले वीरेंद्र सहवाग ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 219 रनों की आतिशी पारी खेली थी. उसके बाद रोहित शर्मा ने पिछले साल 209 रन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ठोके, जबकि दूसरी डबल सेंचुरी श्रीलंकाई टीम के खिलाफ जड़ डाली.

क्रिकेट केभगवानका रोहित पर भरोसा
सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है, और इस भगवान ने अपने संन्यास के बाद कहा था कि विराट कोहली और रोहित शर्मा उनके रिकॉर्ड्स तोड़ सकते हैं. तेंदुलकर ने बिना सोचे समझे ऐसा नहीं कहा होगा और रोहित शर्मा की इस पारी ने ये साबित कर दिया है कि तेंदुलकर का भरोसा जाया नहीं जाएगा.

वर्ल्ड कप में तुरुप का इक्का होंगे रोहित
रोहित शर्मा के लिए टीम इंडिया के कार्यवाहक कप्तान विराट कोहली ने इस मैच से पहले कहा था कि वो वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का साबित होंगे. अब रोहित की यह पारी देखकर तो शायद ही किसी के मन में कोई शक रह गया हो. 2015 वर्ल्ड कप ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की मेजबानी में होना है और दोनों ही देशों में रोहित का रिकॉर्ड बयां करता है कि आखिर क्यों विराट ने उनके लिए ऐसा कहा.

न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में अच्छा रिकॉर्ड
रोहित ने न्यूजीलैंड में 7 वनडे मैचों में एक बार नॉटआउट रहते हुए 188 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका औसत 37.60 का रहा और उनके बल्ले से एक हाफसेंचुरी निकली. बात अगर ऑस्ट्रेलिया की करें तो यहां तो रोहित का रिकॉर्ड उतना अच्छा नहीं है. रोहित ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर 15 मैचों में 314 रन बनाए हैं. इस दौरान वो तीन बार नॉटआउट रहे और उनका औसत 26.16 का रहा है. रोहित ने ऑस्ट्रेलिया में अभी तक कोई सेंचुरी नहीं जड़ी है, जिसकी भरपाई वो ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के साथ होने वाली ट्राई सीरीज में और वर्ल्ड कप में करना चाहेंगे.

 

You must be logged in to post a comment Login