रिम्स के 13 जूनियर डॉक्टरों की गिरफ्तारी का आदेश

रिम्स के 13 जूनियर डॉक्टरों की गिरफ्तारी का आदेश

rims-final~14~11~2014~1415988254_storyimage

रिम्स के 13 पीजी डॉक्टरों की गिरफ्तारी का आदेश जारी हुआ है। डीएसपी सत्यवीर सिंह ने यह आदेश दिया है। 25 अगस्त को रिम्स इमरजेंसी में बरियातू थानेदार विनोद कुमार से मारपीट, सरकारी कामकाज में बाधा और मरीजों के परिजनों को कब्जे में रखने के मामले में इन डॉक्टरों के खिलाफ आरोपों को सही पाया गया है।सदर डीएसपी मामले का सुपरविजन किया था। जिन डॉक्टरों की गिरफ्तारी का आदेश जारी हुआ है, उनके खिलाफ वारंट निकालने की कवायद बरियातू पुलिस ने शुरू कर दी है। पूरे मामले में कुल 19 डॉक्टरों पर 24 और 25 अगस्त को पांच नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई थी। जांच में सीनियर रेजिडेंट डॉ उमेश प्रसाद और डॉ जितेंद्र सिंह को क्लीन चिट दी गई है।चार जूनियर डॉक्टरों की भूमिका की जांच की जा रही है। उन्हें शुरुआती राहत मिली है। इनमें डॉ राजीव राज, डॉ राहुल, डॉ विजय और डॉ सरोज शामिल हैं। उन्होंने पुलिस को दिए आवेदन में कहा था कि घटना के दिन वे मौजूद नहीं थे। इसके आधार पर इनकी भूमिका की नए सिरे से जांच होगी।

इनकी गिरफ्तारी के आदेश
डॉ धनंजय कुमार, डॉ श्याम बास्की, डॉ रवि मुर्मू, डॉ विनीत, डॉ सचिन, डॉ संदीप अग्रवाल, डॉ दीपक, डॉ रमेशचंद्र, डॉ मंगेश, डॉ आनंद झा, डॉ अमित कुमार, डॉ विवेक कुमार, डॉ नैन कुमार

क्या था मामला
24 अगस्त को रिम्स में खबर करने गई महिला पत्रकार से बदसलूकी हुई थी। महिला पत्रकार ने दो सीनियर डॉक्टरों समेत अन्य जूनियर डॉक्टरों पर एफआइआर दर्ज कराई थी। 25 अगस्त को स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में हुई शासी परिषद की बैठक के बाद बरियातू थानेदार को पीजी डॉक्टरों ने घेर लिया था। उनसे बदतमीजी भी हुई थी। घटना के बाद पहुंचे सिटी एसपी अनूप बिरथरे के बॉडीगार्डो को भी धक्का देकर जूनियर डॉक्टरों ने निकाल दिया था।वहीं चार घंटे से अधिक वक्त तक बरियातू के पिंटू यादव और सरोज यादव को बंधक बना कर पीटा गया था। इस दौरान रिम्स परिसर में काफी देर तक अफरा-तफरी का माहौल रहा। खबर करने गए पत्रकार दीपक महतो का भी जूनियर डॉक्टरों ने सिर फोड़ दिया था।जांच में पीजी डॉक्टरों पर लगे आरोप सत्य पाए गए हैं। ऐसे में सभी की गिरफ्तारी का आदेश जारी हुआ है। केस के अनुसंधानक को कहा गया है कि जल्द ही आरोपी डॉक्टरों के खिलाफ वारंट हासिल कर कार्रवाई करें। दो सीनियर डॉक्टरों को क्लीन चिट मिली है।

You must be logged in to post a comment Login