राष्‍ट्रपति भवन में ओबामा के स्‍वगात की भव्‍य तैयारी

राष्‍ट्रपति भवन में ओबामा के स्‍वगात की भव्‍य तैयारी

2015_1$largeimg225_Jan_2015_113720950

बराक ओबामा ने राजघाट में महात्‍मा गांधी की समाधि पर माल्‍यार्पण करने के बाद पिपल का एक पौधा लगाया.  पौधे को पानी दिया और फिर हाथ जोड़कर भारतीय जनता का अभिवादन किया.

12:45 PM

अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी की समाधि पर उन्‍हें श्रद्घांजलि देने राजघट पहुंच चुके हैं. उनके साथ मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद हैं. ओबामा ने राष्‍ट्रपिता की समाधि पर माल्‍यार्पण कर उन्‍हें श्रद्धांजलि दी. ओबामा ने दो मिनट का मौन रखकर राष्‍ट्रपिता को याद किया.

12:22 PM

अमेरिकी प्रेसिडेंट बराक ओबामा राष्‍ट्रपति भवन से राजघाट के लिए रवाना हो चुके हैं. राजघाट में राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी की समाधि पर ओबामा माल्‍यार्पण कर उन्‍हें श्रद्धांजलि देंगे. इसके बाद दो मिनट का मौन रखा जायेगा और फिर ओबामा वापस होटल मौर्या लौट जायेंगे.

12:18 PM

विंग कमांडर पूजा ठाकुर के नेतृत्‍व में सेना के जवानों ने अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर दिया. गार्ड ऑफ ऑनर के बाद ओबामा ने भारतीय मंत्रियों से मुलाकात की. ओबामा से मुलाकात के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज, वित्‍त मंत्री अरूण जेटली, शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, दिल्‍ली के एलजी नजीब जंग आदि राष्‍ट्रपति भवन में उपस्थित थे. इसके साथ ही अमेरिकी अधिकारियों से राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मुलाकात की.

12:10 PM

राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया ओबामा का स्‍वागत, सेना के जवानों ने ओबामा को 21 तोपों की सलामी दी. 

12:05 PM

बराक ओबामा राष्‍ट्रपति भवन पहुंच चुके हैं. राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उनका औरपचारिक स्‍वागत किया. सेना के जवानों से अमेरिकी राष्‍ट्रपति को गार्ड ऑफ ऑनर दिया. मौके पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह, वित्‍तमंत्री अरूण जेटली और वेंकैया नायडू मौजूद हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी राष्‍ट्रपति भवन में पहुंच चुके हैं. 

11:50 AM

अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा होटल मौर्या से राष्‍ट्रपति भवन के लिए रवाना हो चुके हैं. राष्‍ट्रपति भवन में ओबामा के स्‍वगात की भव्‍य तैयारी की गयी है. स्‍वागत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी राष्‍ट्रपति भवन पहुंच चुके हैं. साथ ही राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी ओबामा का औपचारिक स्‍वागत करेंगे.

नयी दिल्ली : अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा तीन दिन की भारत यात्रा पर आज यहां पहुंच चुके हैं. ओबामा के भारत प्रवास के दौरान दोनों देश असैनिक परमाणु समझौते को कार्यरुप देने पर बने गतिरोध को समाप्त करने और व्यापार एवं निवेश के क्षेत्रों में रिश्ते प्रगाढ करने के अलावा रक्षा सहयोग समझौता करना चाहेंगे. प्रोटोकाल से हटते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पालम हवाई अड्डे पर ओबामा की अगवानी की. ओबामा के साथ उनकी पत्नी मिशेल और उच्च स्तरीय शिष्टमंडल भी आया है. मोदी और ओबामा ने एक दूसरे को गले लगाया.ओबामा पहले अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे जो कल आयोजित गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि बनेंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति असैनिक परमाणु समझौते के क्रियान्वयन पर गतिरोध भंग करने के रास्ते और रक्षा एवं आर्थिक रिश्तों को प्रगाढ बनाने समेत अनेक सामरिक मुद्दों पर मोदी के साथ चर्चा करेंगे. दोनों देश ओबामा की यात्रा के नतीजों को ‘शानदार’ बनाने के लिए बहुत मेहनत कर रहे हैं. दोनो देश व्यापार और आर्थिक रिश्तों को बढाने के तरीकों और जलवायु परिवर्तन के अहम मुद्दे पर भी चर्चा करेंगे.अधिकारियों ने बताया कि परमाणु करार पर प्रगति हुई है और भारत अत्यधिक अहम क्षेत्र में अमेरिका के साथ प्रभावी रूप से काम करने को लेकर आशावादी है. गौरतलब है कि भारतीय उत्तरदायित्व कानून किसी तरह की परमाणु दुर्घटना होने की स्थिति में आपूर्तिकर्ता को सीधे तौर पर जिम्मेदार ठहराता है जबकि फ्रांस और अमेरिका जैसे देशों ने भारत से वैश्विक नियमों का पालन करने को कहा है जिसके तहत प्राथमिक जिम्मेदारी ऑपरेटर की होती है.चूंकि देश में सभी परमाणु संयंत्रों का संचालन सरकारी कंपनी ‘न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड’ (एनपीसीआईएल) करती है, अंतरराष्ट्रीय नियमों का पालन करने का मतलब होगा कि दुर्घटना होने पर सरकार को क्षतिपूर्ति की अदायगी करनी होगी. इसी हफ्ते, अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा ने रेखांकित किया था कि दोनों देशों के बीच का द्विपक्षीय कारोबार पिछले दशक में पांच गुना बढ कर 100 अरब डालर हो गया है.वर्मा ने कहा, ‘हम महसूस करते हैं कि इसका कोई कारण नहीं है कि यह 2020 तक पांच गुना और बढ कर 500 अरब डालर हो जाए.’ जलवायु परिवर्तन एक और मुद्दा है जो मोदी और ओबामा के बीच वार्ता में प्रमुखता से उठ सकता है. ओबामा और मोदी दोनों भारत के पडोस से संबंधित मुद्दों और साथ ही वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे. ओबामा विश्व प्रसिद्ध ताजमहल का दीदार करने आगरा जाने वाले थे, लेकिन उन्होंने आगरा की यात्रा रद्द कर दी और सउदी अरब के शाह अब्दुल्ला के निधन के बाद अब वह नयी दिल्ली से सीधे सउदी अरब जाएंगे. इस बीच राष्ट्रीय राजधानी में अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था की गई है. 

सुरक्षा के हैं पुख्‍ता इंतजाम

दिल्ली पुलिस और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के निशानेबाज ओबामा की यात्रा वाले मार्गों पर पडने वाली ऊंची इमारतों पर तैनात रहेंगे. मौर्य शेरेटन होटल के सामने हरेभरे क्षेत्र की पूरी तरह से जांच की गई है और पुलिस कर्मियों को अमेरिकी राष्ट्रपति के यहां रहने तक इस क्षेत्र के जंगलों में तैनात किया गया है. मध्य दिल्ली को अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है और सुरक्षा एजेंसियों ने करीब 71 इमारतों को आंशिक तौर पर या पूरी तरह से बंद कर दिया है. यहां तक कि सांसदों तथा सैन्य बलों के अधिकारियों सहित इस क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को या तो विशेष पास जारी किये गये हैं या क्षेत्र में प्रवेश के लिए उन्‍हें पहचान साबित करनी होगी. अमेरिकी खुफिया सेवा और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की एक संयुक्त टीम विशेष रूप से स्थापित नियंत्रण कक्षों की निगरानी रखेंगे. इन कक्षों को नये लगाए गए सीसीटीवी कैमरों से जोडा गया है.

राष्ट्रपति करेंगे स्वागत

ओबामा का हवाई अड्डे पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल अगवानी करेंगे. इसके बाद ओबामा को सीधे राष्ट्रपति भवन पहुंचेंगे, जहां राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी उनका आधिकारिक स्वागत करेंगे. इसके बाद वह राजघाट जायेंगे, जहां महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे. बाद में पैधारोपण कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे.

‘वॉक द टॉक’

रविवार दोपहर में ओबामा नयी दिल्ली स्थित हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ लंच करेंगे. बैठक में मीडिया की मौजूदगी नहीं होगी. इसके बाद वह प्रधानमंत्री मोदी के साथ  ‘वॉक द टॉक’ (टहलते हुए वार्ता) में हिस्सा लेंगे. बाद में ओबामा और मोदी हैदराबाद हाउस में प्रेस के सामने संयुक्त बयान जारी करेंगे.

‘ताज दर्शन’ कार्यक्रम रद्द

ओबामा का ताजनगरी आगरा का दौरा रद्द कर दिया है. इसके लिए  ‘अफसोस’ जताया है. व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति ओबामा व प्रथम महिला सउदी अरब के नये शाह सलमान बिन अब्दुल्लाजीज से मिलने और दिवंगत शाह अब्दुल्ला बिन अब्दुल्लाजीज के परिवार के सम्मान में मंगलवारको रियाद के दौरे पर जायेंगे. इसलिए, हमने भारत सरकार के साथ समन्वय करते हुए कार्यक्रम में बदलाव किया है.

You must be logged in to post a comment Login