रामपाल के आश्रम से निकले 2000 समर्थक, फिर शुरू होगा ऑपरेशन

रामपाल के आश्रम से निकले 2000 समर्थक, फिर शुरू होगा ऑपरेशन

56958-rampal-145

हरियाणा में पुलिस-प्रशासन के नाक में दम करने वाले स्वयंभू संत रामपाल के समर्थक अब उनके आश्रम से निकलने लगे हैं। देर रात करीब दो हजार समर्थक आश्रम से बाहर निकल आए, इसमें 500 के करीब महिलाएं भी थीं। समर्थकों की भीड़ के बीच रामपाल के करीब छह निजी कमांडो ने भी निकलने का प्रयास किया। पुलिस ने जांच में उनको पकड़ लिया और हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। इस बीच, मंगलवार को पुलिस और समर्थकों की झड़प में चार लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है। लाशों को आश्रम से निकालने का काम चल रहा है। रामपाल को पकड़ने के लिए पुलिस थोड़ी देर में फिर कार्रवाई शुरू करने वाली है।

हिसार के बरवाला स्थित रामपाल के आश्रम में रात करीब बारह बजे तेज से हलचल हुई है। आश्रम के अंदर से सैकड़ों लोग एक साथ बाहर निकल रहे थे। पुलिस तेजी से हरकत में आई और लोगों को अपने घेरे में लेते हुए उनको गाड़ियों में भरना शुरू किया। बाहर निकले समर्थकों का कहना है कि आश्रम में अभी भी करीब चार से पांच हजार लोग बंधक हैं। उनकी तबीयत खराब है और वे बाहर निकलना चाहते हैं। पुलिस ने इन लोगों को रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पहुंचाने की व्यवस्था की। आश्रम से लोगों के बाहर निकलने की सूचना मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।
इस बीच, मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि आश्रम के भीतर चार लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। स्थानीय मीडिया कि रिपोर्ट में कहा गया है कि मृतकों की पहचान दिल्ली निवासी सरिता (50) और पंजाब निवासी भजन कौर के रूप में हुई है। अन्य मृतकों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। बुधवार सुबह होते ही पुलिस ने एक बार फिर ऑपरेशन की तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस ने आश्रम को चारों तरफ से घेर लिया है और रामपाल के समर्थकों को 10 बजे तक का अल्टिमेटम दिया है कि वे आश्रम खाली कर दें। हरियाणा के डीजीपी एसएन वशिष्ठ ने बताया कि जब तक रामपाल को न्यायालय में पेश नहीं कर देते, ऑपरेशन जारी रखा जाएगा। उन्होंने दावा किया कि रामपाल द्वारा महिलाओं और बच्चों का सहारा लेकर बनाई गई मानव श्रृंखाल हटाने में पुलिस ने सतर्कतापूर्वक कार्रवाई की है। इससे पहले मंगलवार सुबह जब सुरक्षा बल और पुलिसकर्मी आश्रम के मुख्य गेट की तरफ बढ़ने शुरू हुए तो कुछ समर्थकों ने तेल छिड़क आत्मदाह की धमकी दी। आश्रम की छतों पर तैनात समर्थकों ने पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल बम, तेजाब और पत्थर फेंके। जवाब में पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। अनुयायियों के हमले से डीएसपी लोहारू जगतसिंह सहित कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। एक एसएचओ सहित तीन पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। आंसू गैस के गोले और लाठियां भांजने से 50 से अधिक अनुयायी भी जख्मी हुए। एक अन्य घटनाक्रम में पुलिसकर्मियों ने उत्तर हरियाणा के एक एसपी को पीट दिया।डीजीपी ने दावा किया कि रामपाल के आश्रम में पेट्रोल बम और काफी हथियार हैं और सेना के रिटायर्ड लोग भी आश्रम के अंदर हैं। उन्होंने कहा कि समर्थक प्रशिक्षित कमांडो की तरह हमले कर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि रामपाल भी आश्रम के अंदर ही हैं। पत्रकारों से मारपीट के मसले पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने हरियाणा के डीजीपी को नोटिस भेज दिया है। आश्रम के अंदर से फायरिंग होने के बाद भी बंधक लोगों को उनके आग्रह पर पुलिस ने धैर्य और सावधानी से बाहर निकाला है।

प्रशासन का दावा है कि दो हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। प्रशासन का कहना है कि आश्रम के अंदर से अनुयायियों ने पुलिस को फोन किया कि उन्हें जबरन बंधक बनाया गया है और उन्हें मदद की आवश्यकता है। इसके बाद उन्हें बाहर निकाला गया। सभी घायलों को हिसार के जिला अस्पताल और बरवाला के राजकीय चिकित्सालय लाया गया।

You must be logged in to post a comment Login