यूरोपीय संघ का इंजीनियरिंग निर्यात हो सकता है प्रभावित

यूरोपीय संघ का इंजीनियरिंग निर्यात हो सकता है प्रभावित

the_european_union_by_rago-d160py9

आने वाले महीनों में यूरोपीय बाजारों को होने वाले इंजीनियरिंग निर्यात पर असर पड़ सकता है। इसका कारण जर्मनी तथा फ्रांस जैसी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में ताजा आर्थिक संकट का आना है। इंजीनियरिंग निर्यात संवद्र्धन परिषद (ईईपीसी) ने कहा कि भारत का इंजीनियरिंग निर्यात अमेरिका तथा यूरोपीय संघ के बाजारों पर निर्भर है। ईईपीसी ने कहा कि ‘यूरोपीय संघ में सितंबर में हमारा निर्यात 10.33 प्रतिशत बढ़कर 1.09 अरब डॉलर रहा लेकिन जर्मनी तथा फ्रांस जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों में ताजा आर्थिक संकट को देखते हुए आने वाले महीनों को लेकर चिंता है।’ रोटेरडैम तथा एंडवर्प बंदरगाहों पर भारत के इंजीनियरिंग निर्यात में तीव्र गिरावट दर्ज की गई है। यह उत्तरी तथा पश्चिमी यूरोप के माल के आवाजाही का केंद्र है। ईईपीसी के अनुसार रोटेरडैम के जरिए नीदरलैंड को होने वाले निर्यात में सितंबर के दौरान उल्लेखनीय 51 प्रतिशत की गिरावट आई है। आने वाले महीनों में इससे समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। स्थिति और खराब हो सकती है।

You must be logged in to post a comment Login