मोदी ने कहा, मैं पाकिस्तान से मित्रता बढ़ाने के लिए द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता हूं।”

मोदी ने कहा, मैं पाकिस्तान से मित्रता बढ़ाने के लिए द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता हूं।”
Narendra Modi
संयुक्त राष्ट्र। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) महासभा को संबोधित करते हुए पाकिस्तान पर तीखे हमले किए। मोदी ने कहा, ‘मैं पाकिस्तान से मित्रता बढ़ाने के लिए द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता हूं। लेकिन यह पाकिस्तान का दायित्व है वह गंभीरता के साथ आगे आए। इस मंच पर बात उठाने से समाधान के प्रयास कितने सफल होंगे, इस पर कई लोगों को शक है।’ प्रधानमंत्री ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए पड़ोसी का नाम लिए बिना कहा कि कुछ देश आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं। वे गुड टेररिजम और बैड टेररिजम की बात करते हैं। तब तो आतंकवाद से लड़ने की हमारी प्रतिबद्धता पर सवाल खड़े होते हैं।
आतंकवाद जैसे मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की भूमिका को अहम बताते हुए मोदी ने कहा कि यूएन को इस मामले में पहल करनी होगी। मोदी ने जी-7 और जी-20 जैसे देशों के समूहों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जी समूहों से निकल जी-ऑल की तरफ बढ़ने का समय आ गया है। मोदी ने भाषण की शुरुआत में कहा, ‘प्रत्येक राष्ट्र की अवधारणा, भारत का चिरंतन विवेक पूरी दुनिया को एक कुटुंब के रूप में देखता है। हर देश की अपनी फिलॉसफी होती है। देश उसी की प्रेरणा से आगे बढ़ता है। भारत एक देश है जहां प्रकृति के साथ संवाद, उसके साथ कभी संघर्ष नहीं। यह भारत के जीवन का हिस्सा है।’ मोदी ने साफ-सफाई, बिजली की कमी, पीने के पानी की कमी, विश्व शांति, गरीबी जैसे मुद्दों को उठाया।
12 साल बाद यूएन में गूंजी हिंदी,  15 के बदले 35 मिनट बोले मोदी
 मोदी हिंदी में बोले और 15 मिनट की तय सीमा से 20 मिनट ज्यादा बोले। 12 साल पहले 13 सितंबर को 2002 वाजपेयी भी यूएन में हिंदी में ही बोले थे। उनका भी बड़ा मुद्दा पाकिस्तान ही था।
मोदी जब यूएन मुख्यालय पहुंचे तो बाहर आजाद कश्मीर के पक्ष में कुछ लोगों ने नारेबाजी की। इन लोगों ने जनमत संग्रह की मांग की। मुख्यालय के बाहर मोदी के समर्थकों का भी एक बड़ा हुजूम इकट्ठा हुआ और उन्होंने मोदी के पक्ष में नारेबाजी की।
संबोधन से पहले मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून से मुलाकात की। ये मुलाकात करीब 15 मिनट तक चली।

You must be logged in to post a comment Login