मोदी के खिलाफ बना महागठबंधन

मोदी के खिलाफ बना महागठबंधन

                                                           mahagathbandhan

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा के राजनीतिक उभार की तपिश से बचने के लिए पुराना जनता परिवार एक छतरी के नीचे आने पर विवश हो गया है। पिछले लोकसभा चुनावों में परिवार तक सिमटी सपा के मुखिया के प्रयासों के तहत भाजपा खासकर पीएम मोदी के खिलाफ ‘महामोर्चा बनाने के लिए सपा अध्यक्ष के दिल्ली आवास पर सपा, जद यू, राजद, जनता दल एस, सजपा व इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के नेताओं ने बैठक की।

छह दलों के नेता मिले

 बैठक के लिए सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के नई दिल्ली स्थित आवास पर पंह़ुचने वाले प्रमुख नेताओं में राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, जनता दल सेक्युलर नेता और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, जनता दल यू अध्यक्ष शरद यादव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला और सजपा के कमल मोरारका शामिल रहे। इन नेताओं की इस बैठक में फैसला किया गया कि मोदी की अगुवाई में प्रभावी हो रही भाजपा को चुनौती देने के लिए ये दल आपस में रणनीति बनाकर काम करेंगे। सूत्रों के अनुसार जनता परिवार के घटक रहे बीजू जनता दल के प्रमुख और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से भी इस बारे में संपर्क साधा गया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस नेता ममता बनर्जी को भी इस महागठबंधन में लाने की कोशिश शुरू कर दी गई है।

बैठक के बाद जद यू नेता नीतीश कुमार ने कहा कि कहा कि ‘आज शुरुआत हो गई है। सब कुछ ठीक रहा तो भविष्य में यह परिवार एक हो सकता है। कभी गैर कांग्रेसवाद का नारा बुलंद कर राष्ट्रीय राजनीति पर चमका जनता दल कुनबा अब गैर भाजपावाद के नारे के साथ एक बार फिर संगठित होने के प्रयास में है। लोकसभा में हाशिए पर पहुंचे व राज्यों में भाजपा के हाथों राजनीतिक जमीन खो रहे इन दलों ने संकेत दिए हैं कि भविष्य में यह पार्टिया एक झंडे के नीचे भी आ सकती है। कई और दलों से भी संपर्क साधा जा रहा है।

भाजपा को काला धन, बेरोजगारी और किसानों के मुद्दों पर घेरने की बात कह चुके इन नेताओं ने कहा है कि संसद के दोनों सदनों में एकजुट होकर सशक्त विपक्ष के रूप में अपनी बात रखेंगे। सरकार को अब तक घेरने में नाकाम रही कांग्रेस को पीछ छोड़ मुखर विपक्ष के रूप में अपनी छाप छोडऩे के लिए इन दलों के सामने संख्याबल की चुनौती है।

लोकसभा में सपा के पांच, राजद के चार, जदयू के दो एवं जद-एस के दो सदस्य हैं। ऐसे में अपनी बात कहने के लिए इन दलों को कांग्रेस व अन्नाद्रमुक जैसे अपेक्षाकृत ज्यादा सदस्यों वाली पार्टियों से सहयोग लेने की जरूरत होगी। जाहिर है कि इस स्थिति में विरोध के नेतृत्व को लेकर भी बहस होनी तय है।

सूत्रों के मुताबिक बैठक से पहले इन नेताओं की बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी तथा ओडिशा के मुख्यमंत्री व बीजू जनता दल प्रमुख नवीन पटनायक से भी बात हुई। ममता ने गठजोड़ को लेकर सकारात्मक संकेत दिए है। जबकि उड़ीसा में नवीन पटनायक अभी इंतजार करने की रणनीति में है। संकेत मिले हैं कि मुलायम के बाम दलों के प्रति प्रेम व ममता मुलायम के संबंधों की खटास के चलते ममता भी ऐसे आयोजनों से दूरी रखने की रणनीति पर अमल करेंगी।

You must be logged in to post a comment Login