मुजफ्फरपुर उपद्रव: इस महिला ने बचाई थी 10 लोगों की जान, CM ने दिया सम्मान

मुजफ्फरपुर उपद्रव: इस महिला ने बचाई थी 10 लोगों की जान, CM ने दिया सम्मान
shail
रविवार को जब पूरा अजीतपुर धू-धू कर जल रहा था। पूरे गांव में हैवानियत का नंगा नाच खेला जा रहा था और मानवता शर्मशार हो रही थी तो उसी वक्त पास के ही एक टोले की महिला ने मानवता का परिचय दिया। इस महिला ने अपनी जान को दाव पर लगाकर उपद्रव में भाग रहे 10 लोगों की जिंदगी बचाई। महिला शैल देवी ने गांव में मचे उपद्रव में जान बचाकर भाग रहे लोगों को आश्रय दिया। बुधवार को मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने अजीजपुर में शैल देवी को पचास हजार रुपए देकर सम्मानित किया।
हमलावरों ने दूर-दूर तक किया पीछा
अजीजपुर से सटा एक टोला है, जिसे लोग दुसाद टोला के नाम से जानते हैं। इसी टोले में शैल देवी अपनी दो बेटियों के साथ रहा करतीं हैं। रविवार को जब अजीजपुर में हैवानियंत का नंगा नाच शुरू हुआ तो अजीजपुर के लोग अपनी जान बचाने के लिए भागने लगे। हमलावर उनका दूर-दूर तक पीछा कर उन्हें निशाना बना रहे थे। ऐसे में शैल देवी ने अपनी जान की परवाह किए बगैर 10 लोगों को अपने घर में आश्रय दिया।
पूरा परिवार करता है काम
शैल देवी के पति की मौत पांच साल पहले लंबी बीमारी के बाद हो गई थी। तब से परिवार के पालन की जिम्मेवारी शैल देवी पर ही है। शैल की तीन लड़कियां और दो लड़के हैं। शैल आस पास के घरों में काम करतीं हैं। उनके इस काम में उनकी बेटियां भी हाथ बटाती है। बच्चे सरैया के एक दुकान में काम किया करते हैं। यह पूछने पर क्या गांव में जमीन नहीं है पर शैल कहती हैं गांव में जो जमीन है, उससे परिवार का पालन नहीं हो सकता है। इस कारण पूरा परिवार काम करता है। तब हम दो जून की रोटी खाते हैं।
लोगों ने बंद कर लिया था दरवाजा
रविवार की चर्चा करते हुए वो कहती हैं कि जब अजीजपुर पर हमला हुआ था तो वहां से हर कोई भाग रहा था। इनको भागते देखकर आस पास के लोगों ने अपने-अपने घर को बंद कर लिया। हमलावर उनका पीछा कर रहे थे। मुझे लगा कि इन लोगों को अपने घर में नहीं रखा तो उपद्रवी इन्हें मार देंगे। इस कारण हमने इन्हें अपने घर में रख लिया। यह पूछने पर आपको डर नहीं लगा, उन्हें पता चलेगा तो आपको भी मार देंगे? वे कहती हैं कि डर तो बहुत लगा था। लेकिन मुझे लगा कि पहले इनकी जान बचानी जरूरी है। इस कारण हमने ऐसा किया।
Source : Dainik Bhaskar

You must be logged in to post a comment Login