मंत्री पद को लेकर खींचतान, शिवसेना ने भाजपा को दिया अल्‍टीमेटम

मंत्री पद को लेकर खींचतान, शिवसेना ने भाजपा को दिया अल्‍टीमेटम

05_11_2014-5thakre

महाराष्ट्र सरकार में शामिल होने को लेकर शिवसेना ने भाजपा को आठ नवंबर तक की समयसीमा दी है। उसका कहना है कि भाजपा अपना रुख साफ करे कि वह उसे सरकार में सहयोगी बनाना चाहती है या नहीं।सूत्रों के अनुसार, शिवसेना ने भाजपा से कहा है कि 11 नवंबर यानि विश्वास मत हासिल करने से पहले आठ नवंबर तक वह अपना रुख स्पष्ट करे। सरकार में शामिल होने को लेकर दोनों पार्टियों में मंत्रियों की संख्या को लेकर खींचतान चल रही है। शिवसेना उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ 10 मंत्री पद चाहती है जिसमें पांच कैबिनेट और पांच राज्यमंत्री शामिल हैं।वहीं भाजपा शिवसेना को चार कैबिनेट और चार राज्यमंत्री का पद देने के लिए तैयार है। शिवसेना का कहना है कि यदि उसे उपमुख्यमंत्री पद नहीं दिया गया तो उसे 12 मंत्री पद चाहिए।अब शिवसेना ने विश्वास मत हासिल करने की तारीख नजदीक आने के साथ ही भाजपा पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। उसका कहना है कि यदि आठ तारीख तक स्थिति साफ नहीं हुई तो वो फडणवीस सरकार का समर्थन नहीं करेगी।सूत्रों के मुताबिक अगर बीजेपी ने इस बाबत कोई जवाब नहीं दिया तो शिवसेना विपक्ष में बैठेगी और सदन में अपने नेता का ऐलान कर देगी।गौरतलब है कि 288 सदस्यीय विधानसभा में सहयोगी के साथ भाजपा के सदस्यों की संख्या 123 है जो बहुमत से 22 सीटें कम हैं। विधानसभा में शिवसेना के 62 सदस्य हैं। वहीं दूसरी ओर 44 सीटों के साथ तीसरे नंबर की पार्टी एनसीपी ने भाजपा सरकार को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया है।

You must be logged in to post a comment Login