भारत ने पीपीपी नेता की टिप्पणी को हकीकत से कोसों दूर बताया

भारत ने पीपीपी नेता की टिप्पणी को हकीकत से कोसों दूर बताया

 

bilawal

भारत ने पीपीपी नेता बिलावल भुट्टो जरदारी की इस टिप्पणी को हकीकत से कोसों दूर बताया है कि उनकी पार्टी समूचे कश्मीर को इससे वापस लेगी। भारत ने यह भी कहा है कि देश की अखंडता और एकता मोलभाव करने लायक नहीं है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने बताया कि हम आगे देखने की प्रक्रिया में जुटे हुए हैं और आगे की चीजों को लेकर उत्सुक होने का मतलब यह नहीं है कि हमारी सीमाएं बदल जाएंगी। हमनें यह बहुत स्पष्ट कर दिया है कि जहां तक हमारी बात है, भारत की अखंडता और एकता मोलभाव करने योग्य नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह टिप्पणी हकीकत से कोसों दूर है जो हमें पिछली सदी में वापस ले जाएगी। पंजाब के मुल्तान क्षेत्र में कल पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पाकिस्तान की अगली पीढ़ी के नेता बिलावल ने कहा था कि उनकी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी समूचे कश्मीर को भारत से वापस ले लेगी।

उन्होंने कहा कि मैं कश्मीर को वापस लूंगा, समूचे को, और मैं एक इंच भी जमीन नहीं छोड़ूंगा क्योंकि अन्य प्रांतों की तरह यह पाकिस्तान का है। बिलावल ने जब यह टिप्पणी की तब पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी और राजा परवेज अशरफ उनके अगल बगल में थे।

बिलावल ने 2018 में होने वाला आमचुनाव लड़ने की घोषणा की है। वह धर्मनिरपेक्ष पीपीपी का नेतृत्व करेंगे जो आधिकारिक रूप से भारत के साथ अच्छे संबंध चाहती है। बिलावल की दिवंगत मां बेनजीर भुट्टो दो बार प्रधानमंत्री चुनी गई थीं। बिलावल के पिता आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के राष्ट्रपति रह चुके हैं।

You must be logged in to post a comment Login