प्रधानमंत्री का ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ का ऐलान

प्रधानमंत्री का ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ का ऐलान

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ का ऐलान करते हुए सभी सांसदों से कहा कि वे अगले स्वतंत्रता दिवस तक कम से कम एक गांव को ‘आदर्श गांव’ बनाए और अपने पूरे कार्यकाल में पांच आदर्श गांव बनाएं.

images (11)

ऐतिहासिक लाल किले की प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिए अपने पहले संबोधन में मोदी ने कहा कि इस साल 11 अक्तूबर को लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जयंती के मौके पर वह इस योजना का पूरा खाका पेश करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आज एक नया विचार लेकर आपके सामने आया हूं. प्रधानमंत्री के नाम पर कई योजनाएं चल रही हैं, कई नेताओं के नाम पर योजनाएं चल रही हैं, लेकिन आज मैं सांसदों के नाम पर एक योजना का ऐलान कर रहा हूं. ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ .’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम कुछ मानक तय करेंगे. मैं सांसदों से आग्रह करता हूं कि वे अपने इलाके का 3,000 से 5,000 की आबादी वाला कोई भी गांव चुन लें… शिक्षा, सफाई, हरियाली और मेलजोल जैसे कई मानक होंगे. हर सांसद अपने इलाके में एक गांव आदर्श बनाए. मैं इसके लिए 2016 की समयसीमा तय करता हूं.’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘2019 में जब सांसद लोकसभा चुनाव में जाएं तो तीन आदर्श गांव बनाकर जाएं. तय करें कि पांच साल के कार्यकाल में पांच आदर्श गांव बनाने हैं. शहरी क्षेत्र के सांसदों और राज्यसभा के सदस्यों से भी आग्रह करूंगा कि वे भी एक गांव को पसंद करें और उसे आदर्श बनाएं.’’ उन्होंने कहा कि अगर सांसद एक गांव को आदर्श बनाएंगे तो उससे आसपास के कई गांवों पर असर होगा और वहां के लोग भी अपने गांवों को आदर्श बनाने की कोशिश करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘11 अक्तूबर को जयप्रकाश नारायण की जयंती है. उसी दिन मैं सांसद ग्रामीण योजना का पूरा ब्लूप्रिंट सभी सांसदों और राज्य सरकारों के सामने पेश करूंगा. मैं राज्य सरकारों से अभी आग्रह करूंगा कि वे भी इस योजना के माध्यम से सभी विधायकों के लिए एक आदर्श ग्राम बनाने का संकल्प करें.’’

You must be logged in to post a comment Login