जो बैंक मदद नहीं करे उससे निकाल लें पैसा : मांझी

जो बैंक मदद नहीं करे उससे निकाल लें पैसा : मांझी
2014_12$largeimg230_Dec_2014_093825587
मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि पशुपालन विभाग की योजनाओं में जो बैंक सहयोग नहीं कर रहे हैं, उनके पास से तीन-चार दिनों में राशि निकाल लें. ऐसे बैंकों को चिह्न्ति कर कार्रवाई की जायेगी. सोमवार को सचिवालय में नवनियुक्त 140 पशु चिकित्सकों को नियुक्तिपत्र वितरण करने के दौरान उन्होंने कहा कि आबादी तेजी से बढ़ने के कारण जमीन का क्षेत्रफल कम होता जा रहा है.
 जमीन के छोटे टुकड़े को ट्रैक्टर से नहीं जोता जा सकता. इसके लिए बैलों की ही आवश्यकता पड़ती है. पशु चिकित्सकों को नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे पशुओं की देखभाल करने का उनका दायित्व काफी बढ़ जाता है. अगर पशु चिकित्सक बेहतर काम करेंगे, तो पशुपालक फर्जी डॉक्टरों के चक्कर में नहीं फंसेंगे. पशुपालन मंत्री बैद्यनाथ सहनी ने कहा कि दूध से महंगा पानी हो गया है. पशुपालक महंगाई का सामना कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मीन मित्र के तर्ज पर प्रखंड स्तर पर पशु सलाहकारों की भरती की जायेगी. सभी गौशालाओं में एडहॉक कमेटी बनायी जायेगी. इसमें जनप्रतिनिधियों को भी रखा जायेगा. हाल में सभी गौशालाओं को 20-20 लाख रुपये का अनुदान दिया गया है. सचिव हरजोत कौर ने कहा कि राज्य में 1087 पशु अस्पताल हैं, जिसे बढ़ा कर दो हजार करने का प्रस्ताव है. पशुधन केंद्रों की स्थापना की जायेगी. गया में एक डेयरी प्लांट बनाने का प्रस्ताव है.
 मौके पर वन एवं पर्यावरण विभाग के प्रधान सचिव विवेक सिंह, पशुपालन निदेशक आलोक रंजन घोष, कॉम्फेड एमडी आदेश तितरमारे, गव्य निदेशक हरेराम सिंह मौजूद थे.

You must be logged in to post a comment Login