जाह्नवी के लिए इनाम पाने वालों में होड़

जाह्नवी के लिए इनाम पाने वालों में होड़

jhahnvi_ebiharjharkhand

जाह्नवी के मिलने के बाद उस पर घोषित 50 हजार रुपये का इनाम हासिल करने के लिए मौके पर मौजूद लोगों ने भारी मशक्कत की। इस वजह से बच्ची को पुलिस की गाड़ी में बिठाने के लिए पुलिस वालों को खासी कठिनाई का सामना करना पड़ा। पुलिस के मुताबिक इनाम उस युवक को दिया जाएगा, जिसने बच्ची को सबसे पहले देख कर पुलिस कॉल की थी।

पुलिस ने बताया कि रवविार रात 9 बजे धीरेंद्र कुमार (21) लाजवंती गार्डन में बस से उतरकर अपने घर नांगल राया की ओर पैदल जा रहे थे। वह अपने भाई के घर रहकर सरकारी नौकरी के लिए एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं। अचानक अंधेरे में उन्होंने अकेली खड़ी एक बच्ची को रोते हुए देखा। धीरेंद्र ने देखा कि बच्ची के गले में एक बोर्ड टंगा है जिसपर हाथ से अच्छी राइटिंग में हिंदी में कुछ लिखा हुआ है। उस पर लिखा हुआ था कि इस बच्ची का नाम जाह्नवी है, जो इंडिया गेट से लापता हुई थी और इसके पिता का फोन नंबर यह है।

पिछले एक हफ्ते से NBT जाह्नवी के किडनैप होने की खबरें छाप रहा था। धीरेंद्र ने बच्ची से बात की, लेकिन वह कुछ बता नहीं पा रही थी। धीरेंद्र ने पीसीआर कॉल कर दी। उसने मार्केट में आसपास मौजूद लोगों को भी इस बारे में बता दिया। यह सुनते ही लोग जमा हो गए। इनमें कई लोगों को जानकारी थी कि जाह्नवी की बरामदगी कराने वाले को पुलिस कमिश्नर ने 50 हजार रुपये के इनाम का ऐलान किया है।

कुछ ही देर में मायापुरी थाने के पुलिस वाले और पीसीआर की गाड़ी पहुंच गई। लाजवंती गार्डन में पहुंची पुलिस ने जाह्नवी को गाड़ी में बिठाने की कोशिश की, लेकिन वहां कई लोग इनाम की चाहत में जाह्नवी को गाड़ी में बिठाने का विरोध करने लगे। पुलिस के मुताबिक, उनका दावा था कि उन्होंने ही सबसे पहले बच्ची को देखा था, इसलिए पहले उन्हें इनाम देने का ऐलान किया जाना चाहिए। मायापुरी थाने के पुलिस वालों ने बड़ी मुश्किल से जाह्नवी को गाड़ी में बिठाया और थाने ले आए। पीसीआर ने तिलक मार्ग थाने को भी खबर दे दी। दरअसल जाहनवी किडनैपिंग केस तिलक मार्ग थाने में ही दर्ज है। तिलक मार्ग पुलिस भी मौके के लिए निकल गई। तब तक बच्ची को लोकल पुलिस मायापुरी थाने ले आई थी। मौके पर जाह्नवी का परिवार भी पहुंच गया। बेटी का सकुशल देख कर उनकी आंखे भर आईं। पुलिस ने कुछ देर बाद मीडिया की मौजूदगी में बच्ची को उसके परिवार के हवाले कर दिया।

You must be logged in to post a comment Login