छठ महापर्व: उगते सूर्य को अर्घ्य देने के लिए घाटों पर जुट रहे श्रद्धालु,

छठ महापर्व: उगते सूर्य को अर्घ्य देने के लिए घाटों पर जुट रहे श्रद्धालु,
sun2
पटना. लोक आस्था का महापर्व छठ बिहार सहित देश के कई हिस्सों में धूमधाम से मनाया जा रहा है। पूरा वातावरण छठी मइया के गीतों से गुंजायमान हो रहा है। उगते सूर्य देव को अर्घ्य देने के लिए घरों से श्रद्धालु निकलने लगे हैं और छठ घाटों पर पहुंच रहे हैं। जो व्रती घाट पर पहुंच गए हैं, उन्होंने वहां दीप जला दिया है। इससे रोशनी की छटा से तमाम घाट जगमग हो गए हैं। आज उदीयमान भगवान सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाएगा।
गुरुवार को तड़के दो बजे से ही घरों में छठ गीत गूंजने लगे और श्रद्धालु भगवान सूर्य को अर्घ्य देने की तैयारियों में जुट गए। व्रतियों के साथ ही उनके परिजन, रिश्तेदार व पड़ोसी-परिचित तक सभी घाट पर जुटने लगे। इसके बाद व्रती पारण करेंगे और यह महापर्व संपन्न होगा। इससे पहले बुधवार की शाम होते ही अस्ताचलगामी (डूबते) सूर्य को अर्घ्य देने के लिए पटना सहित लगभग सभी जिलों में बने छठ घाटों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। वहीं, कई व्रतियों ने अपने घर की छतों पर टंकी बनाकर भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया।
सोमवार से शुरू हुआ महापर्व छठ
सोमवार से नहाए-खाए के साथ छठ पूजा की शुरुआत हुई। इसके तहत व्रती महिलाओं ने नहाने के बाद चावल, चने की दाल और लौकी की सब्जी का भोजन किया। मंगलवार को खरना था। इसमें उन्होंने चावल, गुड़ और गाय के दूध से बनी खीर का सेवन किया। इसके बाद निर्जल व्रत की शुरुआत हुई।
सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध
छठ को लेकर पटना के गंगा घाटों पर सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध हैं। इसके तहत प्रत्येक घाटों में गोताखोर मौजूद रहे तथा रोशनी की पूरी व्यवस्था के साथ 32 मोटरबोटों से पुलिस पेट्रोलिंग का भी इंतजाम किया गया है।छठ घाटों पर पटाखा जलाने पर प्रतिबंध
गंगा नदी में नाव के परिचालन पर रोक लगा दी गई तथा छठ घाटों पर पटाखा जलाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया। राजधानी की मुख्य सड़कों से लेकर गलियों तक की सफाई की गई है। आम से लेकर खास तक सभी लोगों ने सड़कों की सफाई में अपना योगदान दिया। हर कोई छठ पर्व में हाथ बंटाना चाह रहा है। पटना में कई पूजा समितियों द्वारा भगवान भास्कर की मूर्ति भी स्थापित की गई है।

महिलाओं व बुजुर्गों का खास ध्यान रखें
  • घाट पर अफवाह फैलाने वालों के बारे में फौरन पुलिस को बताएं।
  • छेड़खानी, स्नैचर, पॉकेटमारों व संदिग्धों को देखते ही पुलिस को जानकारी दें।
  • वाहनों की पार्किंग प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थनों पर करें।
  • संकीर्ण रास्तों पर श्रद्धालु कतार में जाएं। महिलाओं व बुजुर्गों का खास ध्यान रखें।
  • घाटों व घाटों तक पहुंचने वाले पथों पर पटाखा नहीं जलाएं।
  • बच्चों को घाटों पर न ले जाएं।
  • घाटों पर नदी में की गई बैरिकेडिंग के आगे नहीं जाएं।
  • लावारिस चीज, वाहन, बिजली का तार आदि अगर दिखे तो फौरन पुलिस को सूचना दें।
  • घर के नजदीक घाटों पर अर्घ्य देने जाएं।

You must be logged in to post a comment Login