गोल्ड जीतने का फैसला सानिया का था

गोल्ड जीतने का फैसला सानिया का था

टेनिस स्टार सानिया मिर्ज़ा ने गोल्ड जीतकर देश का नाम रोशन किया। पहले हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था उन्होंने  लेकिन बाद में अचानक से उनका मन बदल गया। सानिया ने बताया “पहले मैं खेलने वाली नहीं थी लेकिन इस कारण मुझे रात भर नींद नहीं आई। मैंने फिर अपना फैसला बदला आैर एशियाड में दो पदक जीतीं। मेरे निर्णय बदलने के पीछे प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी की प्रेरणा नहीं थी। यह मेरा निजी फैसला था। हां, मैं प्रधानमंत्री से मिली जरूर थी लेकिन इस बारे में कोई बात नहीं हुई थी।” “मैं हमेशा दिल से जो होता है, वही करती हूं। मैंने पूरी जिंदगी वही किया है जो मेरे दिल ने कहा। मैं दिमाग से उतना नहीं सोचती। मैंने अपना फैसला बदला और इंचियोन एशियाड में खेलने का एलान कर दिया। उस वजह से मेरी रैंकिंग भी ड्रॉप हो गई थी लेकिन नीयत अच्छी हो तो खुदा भी साथ देता है और उसके बाद मैंने वहां दो मेडल जीते। फिर तो डब्ल्यूटीए में विनर रही। यह मेरा ही फैसला था और मैं खुश हूं कि यही सही था।”

You must be logged in to post a comment Login