केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी

केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी

india-defence

केन्द्र सरकार ने शनिवार को 80 हजार करोड़ रुपये की रक्षा परियोजनाओं को मंजूरी दे दी। सरकार ने तय किया है कि छह पनडुब्बियों का स्वदेशी स्तर पर निर्माण किया जायेगा, जबकि 8000 इस्राइली टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल और 12 उन्नत डोरनियर निगरानी विमान खरीदे जायेंगे।

इन निर्णयों से पहले रक्षा मंत्री अरुण जेटली के नेतृत्व में रक्षा खरीद परिषद की दो घंटे से अधिक बैठक चली जिसमें रक्षा सचिव, तीनों सेनाओं के प्रमुखों, डीआरडीओ प्रमुख एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

अधिकतर निर्णय नौसेना के अनुकुल रहे जो उन्नयन एवं क्षमता विस्तार की भारी कमी महसूस कर रही है। बड़ा निर्णय बाहर से खरीदने के बजाय 50 हजार करोड़ रुपये की लागत से भारत में छह पनडुब्बियों का निर्माण करने का है।

एक अन्य महत्वपूर्ण फैसला भारतीय सेना के लिए अमेरिका से जेवलिन मिसाइल खरीदने के बजाय 3200 करोड़ रुपये से इस्राइल से 8356 टैंक रोधी मिसाइल खरीदना है। सेना मिसाइलों के लिए 321 लांचर भी खरीदेगी।

हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लि़ 1850 करोड़ रुपये की लागत से उन्नत सेंसरों वाले 12 डोरनियर निगरानी विमान खरीदेगा।

डीएसी ने 662 करोड़ रुपये से मेदक के आयुध कारखाना बोर्ड से 36 इंफेट्री फाइटिंग व्हेकिल खरीदने का निर्णय किया है।

देश में छह पनडुब्बियां बनाने के निर्णय का ब्यौरा देते हुए आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अब रक्षा मंत्रालय एक समिति का गठन करेगा। यह समिति अगले 6.8 सप्ताह में निजी एवं सार्वजनिक गोदियों का अध्ययन करेगी।

You must be logged in to post a comment Login