एंड्रॉयड और आईओएस को चुनौती देगा विंडोज-10

एंड्रॉयड और आईओएस को चुनौती देगा विंडोज-10

1~20~01~2015~1421733819_storyimage

गूगल के एंड्रायड और एप्पल के आईओएस स्मार्टफोन के एकाधिकार को तोड़ने के लिए माइक्रोसॉफ्ट को नए ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज 10 से बहुत उम्मीदें हैं। यह ओएस 21 जनवरी को कंपनी के मुख्यालय रेडमंड में लांच किया जाएगा। सभी तरह के विंडोज डिवाइस के लिए एकीकृत ओएस नए विंडोज 10 की विशेषता होगी। साथ ही इसमें कंप्यूटर वाले एप स्मार्टफोन और टैबलेट में भी चलेंगे।मालूम हो कि माइक्रोसॉफ्ट ने दो साल पहले लांच विंडोज आठ ओएस की नाकामी की 8.1 ओएस से भरपाई करने की कोशिश की थी, लेकिन उसके स्मार्टफोन की बाजार में हिस्सेदारी तीन प्रतिशत से भी कम हो गई। साथ ही एप निर्माताओं ने विंडोज ओएस से और दूरी बना ली थी।

पहले नोकिया से हाथ मिलाया, फिर उसे खरीदा
2011 में माइक्रोसॉफ्ट ने सबसे पहले फिनलैंड की कंपनी नोकिया से समझौता किया। दोनों कंपनियों ने साझा पत्र में कहा था- बाजार में मौजूद अन्य मोबाइल इकोसिस्टम में हम सेंध लगा देंगे। लेकिन पिछले साल एमएस को खस्ताहाल नोकिया मोबाइल डिवीजन सात अरब अमेरिकी डॉलर में खरीदना पड़ा।

विंडोज 8 ने डाला मुश्किल में
दो वर्ष पुराने विंडोज 8 सॉफ्टवेयर के कारण उपभोक्ता एमएस से और छिटक गए। इस समय दुनिया के 10 फीसदी से भी कम कंप्यूटरों में यह काम कर रहा है। इसके मुकाबले पांच साल पहले लांच विंडोज 7 का डेस्कटॉफ बाजार में आधे से ज्यादा कब्जा है। विंडोज 8 तो 14 साल पहले आए विंडोज एक्सपी से भी कम संख्या में है। एक्सपी 20 फीसदी डेस्कटॉप पर चल रहा है।

तो सिंगल विंडोज बनेगा हकीकत
एमएस के प्रवक्ता फ्रैंक एक्स शॉ का कहना है कि हम यूजर को सभी तरह की डिवाइस में सिंगल विंडोज का अनुभव देने की दिशा में बढ़ रहे हैं। विंडोज 10 के साथ हम फोन, टैबलेट, डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए अधिक एकीकृत विंडोज प्लेटफॉर्म की तरफ अग्रसर हैं।

एप्पल का कहना- सिंगल ओएस ठीक नहीं
एप्पल के सीईओ टिम कुक ने 2012 में कहा था- आप टोस्टर और रेफरिजरेटर को मिला सकते हैं, लेकिन इससे यूजर को खुशी नहीं मिलने वाली है।

..तो एप निर्माता फिर विंडोज से मिलाएंगे हाथ
कंपनी का कहना है कि पर्सनल कंप्यूटर के लिए तैयार नये ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज 10 से एप निर्माता फिर उससे हाथ मिला लेंगे। इस ओएस की खासियत यह है कि कंप्यूटर एप्स सहजता से मोबाइल डिवाइस में चल सकेंगे। इससे एप अधिक संख्या में उपलब्ध होंगे। लिहाजा विंडोज स्मार्टफोन की बिक्री भी बढ़ेगी।

विंडोज का सिरदर्द हैं कम एप
माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि उसके स्टोर में 560,000 एप्लीकेशन हैं। इनमें भी ज्यादातर स्मार्टफोन के लिए हैं। यह संख्या एक साल पहले के मुकाबले 60 फीसदी ज्यादा है। लोग जैसे एप चाहते हैं, वैसे 85 से 95 प्रतिशत उपलब्ध हैं। नेटफिक्स, फेसबुक, स्पोटीफाई और अन्य ए-श्रेणी के एप। जहां तक गूगल और एप्पल का सवाल है उनके स्टोर में दस लाख से ज्यादा एप हैं।

You must be logged in to post a comment Login