इंडिया के पहले ‘चाइनामैन’ बॉलर बने कुलदीप

इंडिया के पहले ‘चाइनामैन’ बॉलर बने कुलदीप

kuldeep-yadavu19-640

8 अक्‍टूबर से वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू होने वाली वनडे सीरीज के लिए शनिवार को टीम इंडिया का एलान हुआ।टीम में यूपी के कुलदीप यादव नए चेहरे हैं। वह टीम इंडिया में खेलने वाले पहले चाइनामैन  (बाएं हाथ से ऑफ से लेग साइड स्पिन) गेंदबाज हैं। चाइनामैन गेंदबाजी वह है, जब बाएं हाथ का गेंदबाज कलाई के सहारे स्पिन करता है और गेंद दाएं हाथ के बल्‍लेबाज के लिए अंदर की ओर और बाएं हाथ के बल्‍लेबाज के लिए बाहर की ओर घूमती है। ऐस गेंदबाज कम ही होते हैं।

रणजी खेले बिना एंट्री

खास बात यह है कि 19 वर्षीय कुलदीप ने अभी तक फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट या लिस्ट ‘ए’ मैच खेला ही नहीं है। पिछले सत्र में उन्हें यूपी की रणजी टीम में शामिल तो किया गया था मगर एक भी मैच नहीं खिलाया गया।

केकेआर का हिस्‍सा

कुलदीप फिलहाल चैंपियंस लीग में कोलकाता नाइटराइडर्स की ओर से खेल रहे हैं। कुलदीप 2014 में अंडर 19 वर्ल्‍ड कप टीम का हिस्सा रहे हैं। वह आईपीएल की कोलकाता नाइडराइडर्स और मुंबई इंडियंस की तरफ से खेल चुके हैं। उन्होंने आठ ट्वेंटी 20 मैचों में 14 विकेट हासिल किए है और उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 15 रन पर तीन विकेट रहा है। कुलदीप ने अंडर-19 इंडिया के लिए 24 वन डे मैचों में 48 विकेट लिए हैं।

सवाल भी उठे 
कुछ एक्‍सपर्ट मान रहे हैं कि यदि सिर्फ आईपीएल और चैंपियंस लीग के प्रदर्शन पर भारतीय टीम में सिलेक्‍शन होने लगा तो फिर घरेलू क्रिकेट के फॉर्मेट की जरूरत ही नहीं है। जानकारों को डर है कि युवा क्रिकेटर  सिर्फ आईपीएल को ही तरजीह देने लगेंगे और रणजी ट्रॉफी, विजय हजारे ट्रॉफी, दिलीप, देवधर और ईरानी ट्रॉफी का आयोजन बेमकसद हो जाएगा।

समर्थन भी मिला 
कुलदीप के लिए पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्‍कर ने तो यहां तक कह डाला कि अगर मैं चयनकर्ता होता तो बिना एक भी फर्स्ट क्लास मैच खेले ही इसे टेस्ट टीम में चुन लेता। मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंडुलकर भी कुलदीप की तारीफ कर चुके हैं। कुलदीप ने एक नेट सेशन में सचिन का मिडल स्‍टंप उखाड़ा था। कुलदीप बता चुके हैं कि वो शेन वॉर्न जैसे गेंदबाज बनना चाहते हैं।

You must be logged in to post a comment Login