आलू ने तरेरी आंखें, 40 तक पहुंचे दाम

आलू ने तरेरी आंखें, 40 तक पहुंचे दाम

images

आलू ने  आंखें तरेर ली हैं। खुदरा बाजार में आलू 40 रुपये प्रति किलो तक जा पहुंचा है, जिससे हलचल मचनी शुरू हो गई है। लेकिन देर से ही सही, सरकार की नींद खुल गई है। इसी का नतीजा है कि अब वह आलू इंपोर्ट करने जा रही है।

कृषि सचिव आशीष बहुगुणा ने कहा है कि सरकार जल्द ही आलू की कीमतों को थामने के लिए नैफेड के माध्यम से इसका आयात करेगी। इसके लिए टेंडर जल्द ही जारी कर दिए जाएंगे। पहली खेप नवंबर में भारत पहुंच जाएगी। आलू यूरोप और पाकिस्तान जैसे देशों से मंगाया जाएगा।

गौरतलब है कि हाल के दिनों में सरकार का पूरा ध्यान प्याज की कीमतों को थामने पर रहा। इसी दौरान आलू के रेट भी बढ़ते रहे, मगर उसकी ओर ध्यान नहीं दिया गया। पिछले सीजन में आलू के उत्पादन में करीब 6 फीसदी की कमी आई थी, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इससे दाम इतने उछलने का कोई कारण नहीं था। इसकी असल वजह आलू की जमाखोरी और इसके स्टॉक को धीरे-धीरे रिलीज करना थी।

कृषि सचिव ने बताया कि सरकार ने जून महीने में आलू का मिनिमम एक्सपोर्ट प्राइस 450 डॉलर प्रति टन तय किया था। उस समय देश में आलू की कोई कमी नहीं थी और दाम भी काफी नीचे थे। वहीं आलू पर इंपोर्ट ड्यूटी 30 पर्सेंट है। अब आलू का स्टॉक खत्म हो रहा है और आलू की नई फसल जनवरी से आना शुरू होगी। भारत में 44.3 मिलियन टन आलू का उत्पादन 2013-14 में हुआ था, जो पिछले वित्तीय वर्ष में हुए उत्पादन से 2.3 पर्सेंट कम था।

You must be logged in to post a comment Login