नए सिरे से जारी होगा पीटी परीक्षा का रिजल्ट

नए सिरे से जारी होगा पीटी परीक्षा का रिजल्ट

छठी जेपीएससी प्रारंभिक परीक्षा (पीटी) का रिजल्ट नए सिरे से जारी होगा। सामान्य श्रेणी के छात्रों के कट ऑफ मार्क्स के बराबर या इससे अधिक अंक लाने वाले आरक्षित श्रेणी के सभी छात्र पीटी परीक्षा में सफल घोषित किए जाएंगे। इन्हें मुख्य परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी। यह फैसला मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में लिया गया।

कार्मिक विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे और कैबिनेट सचिव सुरेंद्र सिंह मीणा ने बताया कि सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों से ज्यादा मार्क्स लाने के बाद भी आरक्षित श्रेणी के कई छात्र-छात्राओं को पीटी में असफल घोषित करने की शिकायत मिली थी। इस पर महाधिवक्ता से परामर्श लिया गया। इसके आधार पर सरकार ने फैसला लिया है कि ज्यादा मार्क्स लाने वाले आरक्षित श्रेणी के सभी उम्मीदवारों को मुख्य परीक्षा में बैठने दिया जाएगा। मुख्य परीक्षा में जितने अभ्यर्थी शामिल होते हैं, उनसे 15 गुणा ज्यादा को पीटी की परीक्षा में पास किया जाता है।

जेपीएसपी 2016 की परीक्षा में यह नियम प्रभावी नहीं होगा। यानी 15 गुणा से ज्यादा परीक्षार्थी होने पर भी उन्हें मुख्य परीक्षा में शामिल कराया जाएगा। दूसरी जिन परीक्षाओं की प्रक्रिया जारी है, उनमें यह व्यवस्था लागू नहीं होगी, लेकिन नए सिरे से पीटी परीक्षा वाले जो भी विज्ञापन निकाले जाएंगे, उसमें 15 गुणा से ज्यादा परीक्षार्थी होने पर उन्हें भी मुख्य परीक्षा में बैठने दिया जाएगा। निधि खरे ने बताया कि यह मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है, इसलिए सरकार के फैसले की जानकारी हाईकोर्ट को भी दी जाएगी।

रिजर्व छात्रों का आरोप, सामान्य श्रेणी से ज्यादा अंक, फिर भी फेल

आरक्षित श्रेणी के छात्रों से कम मार्क्स लाने वाले सामान्य श्रेणी के छात्रों को पीटी में पास करने और रिजर्व कैटेगरी वालों को फेल कर दिए जाने के विरोध में छात्रों ने 28 फरवरी को जेपीएससी कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने इस गलती को सुधार कर पुन: रिजल्ट प्रकाशित करने की मांग की थी। छात्रों का कहना था कि सामान्य श्रेणी के जिन छात्रों ने 210 मार्क्स लाया उन्हें पीटी में पास कर दिया गया, जबकि रिजर्व कैटेगरी के 259 मार्क्स लाने वालों को भी फेल कर दिया गया।

पीटी में 5138 छात्र सफल हुए थे, अब सीट से 15 गुणा से ज्यादा मेंस में बैठेंगे

जेपीएससी छठी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट 23 फरवरी को रात ढाई बजे जारी हुआ था। 326 पदों के लिए हुई परीक्षा 10 जिलों में 229 केंद्रों पर हुई थी। इस परीक्षा के लिए एक लाख चार हजार उम्मीदवारों ने आवेदन दिया था। परीक्षा में 74,060 छात्र शामिल हुए थे, जिनमें से 5138 सफल रहे।

रूरल हॉस्पिटल में काम कर चुके डॉक्टरों को पीजी एडमिशन में 30% तक छूट:

जिन डॉक्टरों ने ग्रामीण क्षेत्र में काम किया है, उन्हें मेडिकल कॉलेज में पीजी में एडमिशन में 10 से 30 फीसदी तक छूट दी जाएगी। यह फैसला कैबिनेट की बैठक में लिया गया। ग्रामीण क्षेत्र में सबसे ज्यादा समय बिताने वाले को 30 फीसदी और सबसे कम समय काम करने वाले को 10 फीसदी की छूट मिलेगी।

कैबिनेट के अन्य फैसले:

  • जीएसटी बिल पर चर्चा के लिए झारखंड विधानसभा का विशेष सत्र 27 अप्रैल को बुलाने की स्वीकृति।
  • जनवरी 2017 से महंगाई भत्ता में दो फीसदी वृद्धि करने की स्वीकृति। पेंशनधारियों को भी लाभ मिलेगा
  • हजारीबाग शहरी जलापूर्ति योजना के 300 करोड़ रुपए की प्रशासनिक स्वीकृति।
  • धनबाद, बोकारो, रामगढ़ और चाईबासा के जैसे खनिज क्षेत्रों में जिला खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट से मिले 1050 करोड़ 85 लाख रुपए 26 जलापूर्ति योजनाओं के निर्माण पर खर्च होंगे।

अन्य खबरों के लिए पढ़ें :

National | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login