पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह की हालत नाजुक

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह की हालत नाजुक

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह की हालत नाजुक, ऑपरेशन से भी नहीं सुधरी हालत

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है। वह कोमा में चले गए हैं। वहीं अस्पताल की ओर से जारी हेल्थ बुलिटिन में भी उनकी हालत बेहद गंभीर बताई है, उन्हें फिलहाल लाइफ सपोर्ट सिस्टम में रखा गया है, डॉक्टरों की एक टीम लगातार उन्हें मोनिटर कर रही है।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह को सिर में चोट के चलते दिल्ली के आर्मी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। वह गुरुवार रात को अपने घर में फिसल कर गिर गए थे, जिसके चलते उनके सिर में गहरी चोट आई है। जवसंत सिंह का एक ऑपरेशन भी किया गया है और वह आईसीयू में भर्ती हैं।  जसवंत को देखने के लिए बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी अस्पताल पहुचें। वहीं, पूर्व बीजेपी अध्यक्ष वैंकेया नायडू ने जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह से फोन पर बात कर हाल-चाल जाना। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  ने भी जसवंत सिंह के परिवार से फोन पर बात की है। इसके साथ ही गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी उनका हालचाल जानने अस्पताल पहुंचे।

बीजेपी से बगावत कर निर्दलीय लड़ा चुनाव 

जसवंत सिंह ने इस साल बाड़मेर से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में लोकसभा चुनाव लड़ा।

सिंह ने पसंदीदा सीट को लेकर पार्टी की खिलाफ बगावत कर दी थी। वह एनडीए सरकार में वित्त मंत्री, विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री जैसे अहम पदों पर रहे। जसवंत सिंह योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। बीजेपी 2004 में चुनाव हारकर जब सत्ता से बाहर हुई, तो वह राज्यसभा में विपक्ष के नेता बनाए गए थे।

जिन्ना पर लिखी किताब से आ गए थे विवादों में

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना पर लिखी उनकी किताब पर 2009 में खूब बवाल हुआ। Jinnah – India, Partition, Independence नाम की इस किताब ने बीजेपी के अंदर खलबली मचा दी। किताब में कथित तौर पर मोहम्मद अली जिन्ना की प्रशंसा और नेहरू-पटेल की आलोचना की गई थी, जिसके चलते 19 अगस्त, 2009 को उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। हालांकि बाद में पार्टी में उनकी वापसी भी हुई।

Related Posts:

You must be logged in to post a comment Login