24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ संपन्न

24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ संपन्न

ईशाकचक स्थित शिवपुरी कालोनी गायत्री परिवार की ओर से गायत्री मंदिर में चल रहे 24 कुंडीय महायज्ञ का समापन रविवार को किया गया। हरिद्वार से पधरे कथावाचक विनय केसरी के द्वारा प्रवचण दिये गये। गायत्री मंत्रा का अर्थ समझातो हुए उन्होने कहा कि गायत्री मैत्री किसी देवी देवताओ का मंत्रा नही है।

बल्कि यह मंत्रा सदबुद्धि के मार्ग को प्रशस्त करता है। समापन के इस अवसर पर 150 बच्चों को दीक्षा दी गई तथा 200 बच्चों ने विद्या आरंभ किया। समापन में लगभग 700 लोगों ने हवन में शामिल हुए। अंतिम दिन श्रद्धालुओें की भीड़ कापफी अध्कि थी। श्रद्धालुओें केंद्र पर लगे नारी उत्थान समय की सबसे बड़ी आवश्यकता जेसे कई ध्र्म से जुड़े पुस्तक बिक रहे थे। देर शाम तक गायत्री मंदिर श्रद्धालुओें की भीड़ लगी रही। 24 कुंडीय महायज्ञ में दूर दराज से भी कापफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थे।

इस मौके पर चंद्रभानु कपिलदेव मंडल, मंजू सिन्हा, संजय कुमार आदि के अलावा कापफी संख्या में लोग उपस्थित थे।

अन्य खबरों के लिए पढ़ें :

National | International | Bollywood | Bihar | Jharkhand | Bhagalpur | Business | Gadgets

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें eBiharJharkhand App

You must be logged in to post a comment Login