बाढ़ का कहर जारी, डूबने से अब तक 22 की गई जान

बाढ़ का कहर जारी, डूबने से अब तक 22 की गई जान

Bihar flood

मुजफ्फरपुर/बेतिया/बिहारशरीफ/आरा/कटिहार/पूर्णिया. कोसी, गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती और कमला-बलान नदियों में जारी उफान के कारण सूबे में बाढ़ की स्थिति और गंभीर हो गई है। 12 जिलों में बाढ़ चुकी है। लेकिन प्रशासन आठ जिलों सहरसा, सुपौल, पश्चिमी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी और नालंदा में ही बाढ़ मान रहा है। जबकि पूर्वी चंपारण, नवादा, शेखपुरा अौर गोपालगंज में बाढ़ नहीं मान रहा। प्रदेश में रविवार को बाढ़ से 22 लोगों की मौत हो गई। आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष सचिव अनिरुद्ध कुमार ने बताया कि राज्य के 491 गांवों के करीब चार लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। 196 गांव पूरी तरह पानी से घिरे हुए हैं। पौने तीन कराड़ की फसल बर्बाद हो चुकी है। प्रभावित परिवारों के बीच 10 हजार से ज्यादा पॉलीथिन सीट का वितरण किया गया है। प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम तैनात की गई है।

 सीएम ने दिए राहतकार्य तेज करने के निर्देश

रविवार को मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव व्यासजी ने पटना और नालंदा डीएम के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने सूबे के बाढ़ प्रभावित जिलों के लोगों को राहत मुहैया कराने का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन विभाग को सभी प्रभावित जिलों में राहत कैंप स्थापित करने और राहत सामग्रियों का वितरण कराने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि जिन जिलों में राहत मद में राशि नहीं है वहां तुरंत राशि का आवंटन किया जाए।

उत्तर बिहार में बाढ़ का कहर जारी है। मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी और रक्सौल-नरकटियागंज रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन ठप हो गया। पश्चिम चंपारण के बैरिया प्रखंड के लौकरिया गांव में पीडी रिंग बांध और फुलिया खाड के समीप चंपारण तटबंध में और पूर्वी चंपारण के इजरा गांव में रिसाव हो रहा है। रिसाव होने से ग्रामीण दहशत में हैं। जलसंसाधन विभाग द्वारा रिसाव को बंद करने का प्रयास किया जा रहा है। नेपाल जिले में निरंतर हो रही बारिश गंडक बराज से छोड़े गए सवा चार लाख क्यूसेक पानी सेे गंडक में उफान गया है।

मुजफ्फरपुर के औराई, कटरा, गायघाट और साहेबगंज में बाढ़ की विकट स्थिति बनी हुई है। दर्जनों गांव अब भी जलमग्न हैं। सबसे खराब स्थिति औराई प्रखंड की है। जिला प्रशासन द्वारा पांच राहत कैंप बनाए गए हैं। करीब दो हजार लोगों के भोजन की व्यवस्था की गई है। एनडीआरएफ की टीम फंसे लोगों को बाहर निकालने में जुटी हुई है।

बाढ़ग्रस्त जिलों में 22 बने मौत का शिकार

सारण में तालाब में डूबकर चार की मौत : सारण जिले केे भेल्दी थाना क्षेत्र के तरवार गांव में तालाब में नहाने गए चार किशोर-किशोरियों की डूब कर मौत हो गई। रविवार की देर शाम चौकीदार जयराम राय के सोलह वर्षीय पुत्र मैनेजर राय 14 वर्षीया पुत्री ज्ञांती कुमारी, जलेश्वर राय की 14 वर्षीया पुत्री रीता कुमारी 10 वर्षीया लगनी कुमारी गांव के पास ही तालाब में स्नान करने गई थीं।

सीतामढ़ी में चार डूबे: मेजरगंजप्रखंड के डुमरी खुर्द डुमरी कलां गांव के बीच लचका पार करने के दौरान 10 वर्षीय समीर साइकिल के साथ बाढ़ में बह गया। नानपुर प्रखंड के गौड़ा गांव निवासी तपेश्वर बैठा की 12 वर्षीया पुत्री आरती कुमारी, नून्नीसैदपुर प्रखंड के प्रेमनगर गांव निवासी रामचन्द्र शर्मा के पुत्र शत्रुध्न कुमार कोयली गांव निवासी राधे दास की मौत बाढ़ में डूबने से हो गई।

नवादा में पूर्व मुखिया पुत्र समेत दो मरे: नवादाजिले के कौआकोल थाने के नाटी नदी में स्नान करने के दौरान छबैल पंचायत के पूर्व मुखिया बाल्मीकि सिंह के पुत्र मृत्युंजय कुमार की मौत हो गई। दूसरी तरफ, नवादा नगर थाना के गोंदापुर निवासी कृष्णा यादव के पुत्र संतोष यादव खूरी नदी में स्नान कर रहा था तभी वह डूब गया।

मुजफ्फरपुर में दो की गई जान: मुजफ्फरपुरके कटरा प्रखंड के बलुआ गांव में रिक्कु कुमार और राकेश कुमार की बाढ़ में डूबने से मौत हो गई।

नालंदा में तीन मरे: नालंदाके रहुई थाना क्षेत्र के वासकशैदी गांव में कारू साव की डूबने से मौत हो गयी, वहीं सिलाव थाना क्षेत्र के कड़ाह गांव में दस वर्षीय बालक मो. इमाम बाढ़ में स्नान करने के दौरान डूब गया। बिहारशरीफ बियावानी में बाढ़ का नजारा देखने गया सुन्दरगढ़ निवासी हिमांशु राज नामक छात्र डूब गया।

समस्तीपुर में दो लड़के डूबे: समस्तीपुरजिले के विभूतिपुर थानान्तर्गत योगिया गड्ढे में डूबने से रविवार को दो किशोरों की मौत हो गई। नरहन बेला गांव निवासी विपिन कापर के पुत्र पंकज कुमार (15वर्ष) और इसी गांव के इंद्रदेव कापर के नाती रोहित कुमार(14 वर्ष) स्नान करने गए थे।

बेगूसराय में डूबकर बच्चे की मौत: रविवार की शाम बेगूसराय में गंडक नदी में डूबने से मुकेश ठाकुर के नौ वर्षीय पुत्र राकेश की मौत हो गई। बगरस गांव का मुकेश घटना के समय स्नान के दौरान गहरे पानी में चला गया।

गोपालगंज में छात्र डूबा: गोपालगंजकी दाहा नदी में नहाने के दौरान 10 कक्षा के छात्र करण कुमार चौहान की मौत हो गई।

दीवार ध्वस्त, महिला की मौत: शेखपुरा में बाढ़ में दीवार गिरने से एक 80 वर्षीया महिला की मौत हो गई। घटना सिरारी ओपी थाना क्षेत्र के ओठमा गांव की है। कैलाश सिंह की मां की मौत हो गई।

मोतिहारी में डूबने से दो मरे: मोतिहारीके डुमरियाघाट थाना क्षेत्र के पकड़ी बिंदा राम के ढाला के समीप गंडक नदी में नहाने गए अशोक कुमार की मौत डूबने से हो गई। फेनहारा थाना क्षेत्र के मनकरवा गांव में लालबाबू सहनी की मौत डीह नाला में डूबने से हो गई।

50 घर नदी में विलीन 

बाढ़ के साथ कटाव भी जारी है। बेतिया के बैरिया प्रखंड के मरचईया गांव के 50 घर रविवार को नदी में विलीन हो गए। लोग गांव खाली कर ऊंची जगहों पर चले गए। इधर नगदाहां, सरैया, पीपरा, इजरा, संग्रामपुर ,साहेबगंज आदि गांव में गंडक नदी भीषण कटाव कर रही है। गांव के लोगों में दहशत व्याप्त है।

सीतामढ़ी में रातो नदी के टूटे तटबंध की मरम्मत में जिला प्रशासन और विभाग जुटा हुआ है। रविवार को बागमती और रातो नदी में पानी एक फीट तक कम होने की सूचना है। बगहा में गदियानी गांव में टूटे तटबंध को मरम्मत का काम धीमी गति से चल रहा है। शनिवार को सीतामढ़ी तीसरे दिन भी भारत-नेपाल का सड़क संपर्क भंग रहा। एनएच 104 पर तीन फीट पानी बह रहा है।

नालंदा में हाइवे पर बह रहा पानी, आरा में डायवर्सन बहा 

नालंदा में रविवार तक बाढ़ ने नये इलाकों को भी चपेट में ले लिया। मुहाने नदी का तटबंध टूट जाने से चंडी प्रखंड और अंचल कार्यालय के अलावा शहर सहित दो दर्जन से भी अधिक गांवों में पानी प्रवेश कर गया है। हरनौत प्रखंड के पूर्वी क्षेत्र का अधिकांश इलाका पंचाने नदी की चपेट में गया है। एनएच 30ए हरनौत-सकसोहरा पथ चार फीट पानी बहने के कारण बंद हो चुका है। लोग नाव राहत के इंतजार में हैं। अम्बेदकर छात्रावास की छात्र पलायन कर गये हैं। इसी प्रकार राजगीर के छबिलापुर सहित कई इलाके बाढ़ की चपेट में गए हैं। बिहारशरीफ शहर में भी जलस्तर कम नहीं हुआ है। रहुई थाना क्षेत्र के पेसौर गांव में एक खपड़पोश मकान पर दो मंजिला पुराना मकान गिर जाने से एक ही परिवार की चार लोग घायल हो गए। सोहसराय में एक चार मंजिला घर पंचाने नदी के कटाव के कारण पूरी तरह झुक गया है, जिसे जिला प्रशासन द्वारा खाली करा दिया गया है। आरा-सहार रोड पर अनुआ गांव के निकट दो डायवर्सन बह गए। आरा सहार प्रखंड मुख्यालय के बीच सड़क सम्पर्क रविवार की सुबह से टूटा रहा। वाहनों का परिचालन पूरी तरह ठप रहा।

गंगा महानंदा के जलस्तर में लगातार वृद्धि कटाव से कटिहार जिले के मनिहारी प्रखंड के कई गांव प्रभावित हो रहे हैं। मनिहारी के बाघमारा और बोलिया में तेजी से कटाव हो रहा है। इससे लगभग 3 सौ से ज्यादा घर प्रभावित है। अफसरों मनिहारी के जदयू विधायक मनोहर प्रसाद सिंह ने कटाव स्थल का निरीक्षण किया। उधर, पूर्णिया के रुपौली प्रखंड की 18 पंचायतों के 50 हजार लोग कोसी में आई बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। पलायन जारी है। बाढ़ के कारण हजारों एकड़ धान की फसल तबाह हो गई है।

बेगूसराय में करेह नदी में उफान से जिले के गढ़पुरा, छौड़ाही, नावकोठी और बखरी प्रखंड के विभिन्न गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। बखरी गांव के समीप स्लुइश गेट से पानी का रिसाव शुरू हो गया है। नवनिर्मित दाहिने तटबंध में कई जगह बड़ी दरारें गईं।

साभार: दैनिक भास्कर

You must be logged in to post a comment Login