नीतीश-लालू-कांग्रेस गठबंधन बीजेपी के खिलाफ दवा का काम करेगा: नीतीश कुमार

नीतीश-लालू-कांग्रेस गठबंधन बीजेपी के खिलाफ दवा का काम करेगा: नीतीश कुमार

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के साथ हाथ मिलाने का समर्थन करते हुए जेडीयू के वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार ने कहा कि धर्मनिरपेक्ष दलों का यह गठबंधन बीजेपी के सांप्रदायिक जहर के खिलाफ दवा के रूप में काम करेगा.

बिहार विधानसभा की दस सीटों में राजनगर (सुरक्षित) विधानसभा सीट से आरजेडी प्रत्याशी रामावतार पासवान के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नीतीश ने मंगलवार को कहा कि जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस का गठबंधन देश में बीजेपी के ‘जहर’ को निष्क्रिय करेगा.

20 साल पुरानी अपनी राजनीतिक प्रतिन्द्वद्विता को भुलाते हुए लालू प्रसाद के साथ सोमवार को हाजीपुर के जमालपुर गांव में पहली बार मंच साझा करते हुए नीतीश ने कहा कि यह वोट के बंटवारे को रोकने के लिए किया गया, जो हाल में संपन्न लोकसभा चुनाव में बीजेपी से हार का कारण रहा. उन्होंने कहा कि बीजेपी के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष शक्तियों की बिहार से एकजुटता के इस नए प्रयोग की शुरुआत हुई है और इसका प्रसार देश के अन्य भागों में भी होगा.

गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की धर्मनिरपेक्षता पर प्रश्न खडा करने वाली जेडीयू ने मोदी को बीजेपी की चुनाव समिति का प्रमुख बनाए जाने पर नीतीश मोदी पर प्रहार करते हुए उन पर और उनकी पार्टी पर ‘अफवाह’ फैलाने का ‘मास्टर’ होने का आरोप लगाया.

नीतीश ने कहा कि हाल ही में नेपाल में भूस्खलन से बिहार के कोसी क्षेत्र में अचानक आए बाढ़ के खतरे को रोकने के लिए बिहार सरकार ने कड़ी मेहनत की और यह पता चला कि उससे कोई बड़ा खतरा नहीं है. तब नरेंद्र मोदी की छवि चमकाने के लिए उनके बारे में यह प्रचारित किया गया कि अपनी नेपाल यात्रा के दौरान उनके प्रयास का नतीजा है कि नेपाल सरकार ने यकायक नहीं थोड़ा-थोड़ा पानी छोड़ा.

नीतीश ने केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि बढ़ती मंहगाई और भ्रष्टाचार ने यह साबित कर दिया है कि अच्छे दिन आने वाले नहीं हैं और लुभावने वादे केवल वोट हासिल करने के लिए किए गए थे. उन्होंने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने से करीब चार लाख रुपये की नौकरी का सपना दिखाकर सोशल मीडिया के जरिए युवाओं की आंखों में धूल झोंका गया. बाहर के चतुर लोग बिहार के गांवों और छोटे शहरों में जाकर इस सपने को बेचा और मतदान समाप्त होते ही वे गायब हो गए.

नीतीश ने बीजेपी सरकार पर बिहार को विशेष दर्जा और विशेष पैकेज का वादा कर उसे पूरा नहीं करने के लिए उसकी निंदा की. उन्होंने बिहार की जनता से हकीकत को समझते हुए उनसे कहा ‘लौट आईए, काम हम करेंगे, वह नहीं करेंगे.’ नीतीश ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है जब वैसे लोग केंद्र में सत्ता में आए हैं, जिनके पुरखों की देश की आजादी में कोई भूमिका नहीं थी, जबकि दूसरी तरफ हम महात्मा गांधी, राम मनोहर लोहिया और जयप्रकाश नारायण के अनुयायी हैं जिनके सतत प्रयास से देश को अंग्रेजों से मुक्ति मिली.

lalu

You must be logged in to post a comment Login