एनआरएचएम के पैसे से खरीदी गई दवाओं का स्पेशल ऑडिट

एनआरएचएम के पैसे से खरीदी गई दवाओं का स्पेशल ऑडिट

download (8)

पटना। प्रदेश में एनआरएचएम के पैसे से खरीदी गई दवाओं का स्पेशल ऑडिट स्वास्थ्य मंत्रालय कराएगा। मंत्रालय को दवा खरीद में गड़बड़ी की शिकायत मिली है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के लेखा नियंत्रक संतोष कुमार ने बताया कि एनआरएचएम के पैसे से बिहार में जो दवाएं खरीदी गईं हैं उनमें अनियमितता की शिकायतें मिली हैं। इस मामले में संबंधित अधिकारियों से जानकारी भी ली जा रही है।

उन्होंने बताया कि मंत्रालय ने इस साल भी एनआरएचएम के तहत लगभग 59 करोड़ रुपये आवंटित किया है। इस पैसे का दुरुपयोग न हो इसीलिए इसकी निगरानी की जा रही है। बता दें कि पिछले सप्ताह स्वास्थ्य मंत्रालय के अवर सचिव ने प्रदेश सरकार को पत्र जारी कर दवा खरीद का पूरा ब्योरा मांगा था। दवा-उपकरण खरीद में कहां फंसा है पेंच अन्य प्रदेशों मे ब्लैकलिस्टेड कंपनियों में से सिर्फ दो पर ही कार्रवाई क्यों हुई। जाजू सर्जिकल लिमिटेड 2010 से ही गुणवत्तायुक्त कॉटन सप्लाई नहीं करने के आरोप में केरल में ब्लैकलिस्टेड है।

बावजूद कंपनी को प्रदेश में कॉटन सप्लाई का आर्डर दिया गया। अभी तक इस कंपनी के विरुद्ध कार्रवाई की नोटिस जारी नहीं हुई है जिससे अन्य कंपनियों के अधिकारी भड़क गए हैं। लेबोरेट फार्मास्यिटिकल लिमिटेड को गुणवत्तायुक्त ओआरएस सप्लाई नहीं किए जाने के कारण राजस्थान सरकार ने डिबार कर दिया है फिर उसे प्रदेश में कैसे सप्लाई का आर्डर दे दिया गया। जब नौवें राउंड की दवा का एग्रीमेंट 31 मार्च 2014 तक मान्य था तो क्या कारण है कि राज्य स्वास्थ्य समिति ने 26 फरवरी 2014 के बाद दवा सप्लाई को बंद करने का आदेश जारी कर दिया।

You must be logged in to post a comment Login