जन-धन योजना में ‘रुपे’ कार्ड से ही मिलेगा एक्सीडेंटल क्लेम

जन-धन योजना में ‘रुपे’ कार्ड से ही मिलेगा एक्सीडेंटल क्लेम

18_09_2014-rupa18

प्रधानमंत्री जन-धन योजना में यदि आप खाताधारक हैं या खाताधारक बनना चाहते हैं तो रुपे कार्ड भी जरूर ले लें क्योंकि इसके बिना आपको दुर्घटना बीमा का लाभ नहीं मिलेगा। रुपे कार्ड स्वदेशी एटीएम कार्ड है। खाता खोलने के साथ ही इस एटीएम कार्ड को जारी करा लें।

काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक श्रीकांत उपाध्याय ने बताया कि रुपे कार्ड कंट्रोलर एनपीसीआइ है। खाताधारक के आश्रितों को एक लाख का क्लेम नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआइ) यानी भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम द्वारा दिया जाएगा। जन-धन योजना के तहत एक लाख बीमा दुर्घटना का लाभ खाताधारक को बिना रुपे कार्ड के नहीं मिलेगा। दुर्घटना बीमा का लाभ ऐसे खाताधारकों को मिलेगा जो बीच-बीच में धन निकासी करते रहेंगे। इसमें एक शर्त यह भी है कि दुर्घटना के 45 दिन के अंदर एटीएम कार्ड का उपयोग पॉश मशीन या ई कामर्स पर किया गया हो।

ये है रुपे कार्ड

प्रधानमंत्री जन धन योजना की वजह से रुपे कार्ड की लोकप्रियता तेजी से बढ़ी है। रुपे कार्ड की लांचिंग सबसे पहले काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक द्वारा की गई थी। रुपे दरअसल दो शब्दों से बना है- रुपी और पेमेंट। वीसा और मास्टर कार्ड की तरह काम करने वाला रुपे कार्ड पहला देसी कार्ड है। इस व्यवस्था की शुरुआत के साथ ही भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है जिनके पास खुद का पेमेंट गेटवे है। अमेरिका, जापान और चीन के बाद इस सूची में शामिल होने वाला भारत चौथा देश है।

ये हैं इसके फायदे

इस कार्ड के जरिये एटीएम से कैश निकालने के अलावा, पीओएस और ऑनलाइन प्लेटफार्म पर लेन-देन भी किया जा सकता है। रुपे की लागत इंटरनेशनल कार्ड की तुलना में काफी कम है। इस कार्ड से होने वाले लेन देन पर बैंकों को इंटरनेशनल कार्ड के मुकाबले 40 फीसद कम अदायगी करनी होती है। ट्रांजैक्शन भी तेज गति से होते हैं।

You must be logged in to post a comment Login