अब स्टूडेंट चलती-फिरती बस में उठाएंगे पढ़ाई का आनंद

अब स्टूडेंट चलती-फिरती बस में उठाएंगे पढ़ाई का आनंद

moving-bus-2_650_082314120655

एयर कंडिशंड बस में अगर लाइब्रेरी, वर्चुअल क्लास, वाई-फाई और इंटरनेट जैसी सुविधाओं के बीच शांत माहौल में पढ़ने का मौका मिले, तो हर स्टूडेंट इसका फायदा जरूर उठाना चाहेगा. मुंबई यूनिवर्सिटी ने ऐसी ही आधुनिक सुविधाओं से युक्त एक लग्जरी बस चलाने का ऐलान किया है, जिसमें न सिर्फ वाई-फाई होगी, बल्कि एमयू में पढ़ाए जाने वाले कोर्सेज और लेक्चर्स की अपडेटेड जानकारी भी मिलेगी. इस आधुनिक बस को ‘मोबाइल नॉलेज रिर्सोसेज सेंटर’ (MKRC) नाम दिया गया है.

महाराष्ट्र में कई ऐसे दूर-दराज वाले क्षेत्र हैं, जहां पर पढ़ाई के लिए कॉलेज तो बना दिए गए हैं, लेकिन पढ़ाई के लिए जरूरी मूलभूत सुविधाएं अभी तक इन कॉलेजों में न पहुंचने की वजह से छात्रों को सही ढंग से शिक्षा नहीं मिल पाती. इसी कमी को पूरा करने और छात्रों के उज्ज्वल भविष्य के लिए मुंबई यूनिवर्सिटी की तरफ से एक अनोखा तरीका अपनाया गया है. यूनिवर्सिटी ने एक ऐसी बस तैयार की है, जो एक चलता-फिरता क्लासरूम है. महाराष्ट्र के दूर-दराज के इलाकों के कॉलेजों में घूम-घूमकर छात्रों को आधुनिक तरीके की पढ़ाई करने के तरीके बताए जाएंगे. ये इलाके हैं- रायगढ़, रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग के तलासरी, वाडा, मोखाडा, जव्हार. यूनिवर्सिटी की मानें, तो इस बस को बनाने के पीछे की मुख्य वजह भी यही रही.

यूनिवर्सिटी द्वारा संचालित MKRC के जरिए छात्र-छात्राओं के व्यक्ति‍त्व और स्किल का विकास होगा. मराठी और अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध स्टडी मेटेरियल को बस में बैठककर स्टूडेंट्स दस दिन में अध्ययन कर सकते हैं. डॉ. मृदुल की मानें, तो बस में दस दिन के कोर्स पैकेज प्रोग्राम है, जिसमें पहले से लेकर अंतिम दिन तक अलग-अलग कोर्सेज उपलब्ध हैं. इसमें रीडिंग रूम, एसी, एलईडी, वाई-फाई और हिस्ट्री, आर्ट और साइंस सहित कई बुक्स और जर्नल्स स्टूडेंट्स के लिए मौजूद हैं. एमकेआरसी की मुख्य खासियतों में 5 कंप्यूटर, 1 LCD प्रोजेक्टर, वाई-फाई कनेक्टिविटी, ई-बुक्स व जर्नल्स, एसी और जेनरेटर, लाइब्रेरी व रीडिंग रूम शामिल हैं. बस एक कॉलेज में 10 दिनों तक रुकेगी. इस बस में कुल 25 स्टूडेंट बैठकर पढ़ाई कर सकते हैं.

इसमें 8 लाख से अधिक किताबें और रिसर्च जर्नल हैं, जिसका फायदा स्टूडेंट्स उठा सकते हैं. हायर टेक्नोलॉजी और रिसर्च मेटेरियल से वंचित स्टूडेंट्स के लिए भी वास्तव में यह बस मददगार साबित होगी.

You must be logged in to post a comment Login