अध्यापन एक पेशा नहीं, जीवन का एक तरीका है: मोदी

अध्यापन एक पेशा नहीं, जीवन का एक तरीका है: मोदी

04_09_2014-4modi2a

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि अध्यापन एक पेशा नहीं, बल्कि जीवन धर्म [जीवन का एक तरीका] है। उन्होंने शिक्षकों से विश्व में हो रहे परिवर्तनों के अनुसार नई पीढ़ी को तैयार करने के लिए कहा।

शिक्षक दिवस से एक दिन पहले बृहस्पतिवार को शिक्षकों से बातचीत के दौरान मोदी ने कहा कि शिक्षक कभी सेवानिवृत्त नहीं होते। इन सभी 350 शिक्षकों को कल शिक्षक दिवस पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सम्मानित करेंगे।

मोदी ने कहा कि समाज के विकास के लिए शिक्षकों को हमेशा समय से दो कदम आगे होना चाहिए। उन्हें विश्व में हो रहे बदलावों को समझना चाहिए और उसी अनुसार नई पीढ़ी को ज्ञान देना चाहिए।

मोदी ने कहा कि गुजरात का मुख्यमंत्री के बाद मेरी दो इच्छाएं थी बचपन के दोस्तों से मिलने और अपने शिक्षकों का सम्मान।

मैंने उन दोनों को पूरा किया.. विद्यार्थी जीवन में एक शिक्षक का बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है, उन्होंने कहा।

मोदी ने हौले से बोलते हुए कहा कि उन्हें यकीन है कि राष्ट्रपति सम्मान से सम्मानित होने वाले शिक्षक दिल्ली की हवा से प्रभावित नहीं होंगे। मुझे यकीन है ऐसा नहीं होगा। मोदी ने कहा कि मैं खुद एक सरकारी स्कूल में पढ़ा हूं। आज भी मुझे अपने सारे शिक्षक याद हैं।

You must be logged in to post a comment Login